DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों को हथियार आपूर्ति करने वाले दो सदस्य हत्थे चढ़े

नक्सलियों तक असलहे पहुंचाने वाले गिरोह के दो सदस्य शनिवार रात पुलिस और एसओजी टीम के हत्थे चढ़े। अछल्दा रेलवे स्टेशन के पास पकड़े गए दोनों आरोपियों से नौ इंग्लिश पिस्टल और पांच मैगजीनें बरामद हुई हैं। गिरोह के तार कानपुर, महोबा, बांदा, बिहार और मध्यप्रदेश के छतरपुर व दमोह आदि से जुड़े हैं। असहले मध्य प्रदेश के बुरहानपुर से लाए जाते हैं। एसपी का कहना है कि गिरोह के तार नक्सलियों से जुड़े होने का पूरा शक है। इसकी छानबीन की जा रही है।

पुलिस अधीक्षक अब्दुल हमीद ने बताया कि शनिवार रात असलहा सप्लायरों के बारे में मुखबिर से सूचना मिली तो अछल्दा एसओ मो. मुस्लिम खां और एसओजी प्रभारी राजेंद्र नागर रेलवे स्टेशन इलाके में जाल बिछाया। इस दौरान स्टेशन रोड पर संदिग्ध हालात में खड़े दो युवकों को पुलिस ने पकड़ा। तलाशी में उनके पास से 32 बोर की नौ इंग्लिश पिस्टल और पांच मैगजीनें बरामद हुईं। आरोपियों ने अपने नाम सईद खां उर्फ नंबरदार निवासी भटीपुरा पठा रोड महोबा और शिवप्रताप उर्फ शिवा निवासी भदरवारा मऊरानीपुर झांसी बताया है। ये हथियारों को बेचने कानपुर जा रहे थे।

एसपी ने बताया कि गिरोह के तार नक्सलियों से जुड़े होने का पूरा शक है। इसकी छानीबीन की जा रही है। उन्होंने बताया कि पकड़े गए बदमाश मध्य प्रदेश के बुरहानपुर से असलहे लाते हैं और कानपुर, बांदा, महोबा के आलावा मध्य प्रदेश के छतरपुर व दमोह और बिहार में हथियारों की आपूर्ति करते हैं। उन्होंने बताया कि कानपुर और बिहार के भी कुछ लोगों के नाम सामने आए हैं। बताया जाता है कि सईद खां उर्फ नंबरदार मूल रूप से हमीरपुर के राठ का रहने वाला है।

राठ में उसके खिलाफ दस आपराधिक मामले दर्ज हैं, इनमें हथियारों की सप्लाई के भी मामले हैं। राठ पुलिस के चलते ही वह महोबा में रहने लगा था। इतना ही नहीं करीब दस साल पहले सईद के परिवार के ही एक सदस्य को नकली नोटों के मामले में भी गिरफ्तार किया गया था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक उसके तार सिमी से भी जुड़े हुए थे। एसपी ने इस कामयाबी पर पुलिस टीम को पांच हजार रुपए इनाम का ऐलान किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सलियों को हथियार आपूर्ति करने वाले दो सदस्य हत्थे चढ़े