DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब भी राज्य के 67 हचाार बच्चे नहीं जाते स्कूल

राज्य के सभी बच्चों को स्कूल से जोड़ने में शिक्षा विभाग विफल साबित हुआ है। अब भी 67 हाार बच्चों ने स्कूल की दहलीज पर कदम नहीं रखा है। इन छात्रों को स्कूल लाने के लिए विशेष योजना भी अधिकारियों की लापरवाही के कारण फ्लॉप हो गयी। हर साल स्कूल चलें हम अभियान चला कर छात्रों को जोड़ा तो जाता है, लेकिन फॉलोअप नहीं होने के कारण फिर छात्र ड्राप आउट हो जाते हैं।ड्ढr शिक्षा विभाग ने इस साल 84343 बच्चों को स्कूल लाने के लिए गैर आवासीय, आवासीय और नवाचारी शिक्षा के तहत जोड़ने का फैसला लिया। सभी जिलों को छात्र संख्या के साथ लक्ष्य भी निर्धारित किया गया, लेकिन अब तक मात्र 173बच्चों को ही इन योजनाओं से जोड़ा जा सका। गैर आवासीय के तहत 40020 में से 5348, आवासीय में 10 हाार में से 16और नवाचारी शिक्षा के तहत 34323 में से 10351 छात्रों को जोड़ा जा सका है।ड्ढr प्रमंडलवार आंकड़ों पर गौर करं, तो हाारीबाग, पलामू प्रमंडल में एक भी छात्र इन योजनाओं से नहीं जुड़ पाये। कोलहान प्रमंडल में नवाचारी शिक्षा को छोड़ दें, तो अन्य दो योजनाओं के तहत छात्रों को स्कूल नहीं लाया जा सका। थोड़ी बहुत बेहतर स्थिति दक्षिणी छोटानागपुर की है। यहां 18832 में से 11110 छात्रों को जोड़ा गया। दुमका प्रमंडल में भी 20 हाार छात्रों में से मात्र पांच हाार ही स्कूल आ पाये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब भी राज्य के 67 हचाार बच्चे नहीं जाते स्कूल