DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली बोर्ड का पहला हाईटेक लैब बनकर तैयार है। इस लैब के बन जाने से बिजली उपभोक्ताओं को मीटर की जांच के लिए अब अधिक प्रतीक्षा नहीं करनी होगी। आधा से एक घंटा में उनके मीटरों की जांच लैब में हो जाएगी।

करबिगहिया में बने इस लैब का उद्घाटन मुख्यमंत्री के हाथों होना है। एक बार में तीस मीटरों की जांच बिजली संबंधी सभी तरह के इलेक्ट्रॉनिक मीटरों की जांच यहां होगी। घरेलू, व्यावसायिक व औद्योगिक प्रतिष्ठानों में लगने वाले सारे हाईटेक मीटर। साथ ही ग्रिड या पॉवर सबस्टेशनों के उच्चशक्ति वाले साफिस्टिकेटेड मीटरों की भी जांच तुरंत होगी। लैब में एक बार में तीस मीटरों की जांच हो सकती है।

वोल्टेज, करंट आदि की ऑनलाइन जांच कर फटाफट रिपोर्ट मिलेगी। मीटरों को टेस्ट करने वाले किट्स की भी जांच हो सकेगी। टेस्टेड मीटरों की भी दुबारा जांच होगी।मीटरों के तेज या धीमा चलने का राज खुलेगाबिजली मीटर के फास्ट या स्लो चलने का राज यह लैब खोल देगा। यह पता चल जाएगा कि मीटर स्लो या फास्ट क्यों चल रहा है। उपभोक्ता इससे काफी हलकान रहते हैं।

इसकी जांच में फिलहाल काफी वक्त लग जाता है। यहां हाईटेक मीटरों के टेम्पर करने के मामले व मीटर से संबंधित विवाद भी निबटाए जाएंगे। पहले ऐसे मामलों को नेशनल फिजिकल लेबोरेट्री व निजी लैब भेजा जाता था। विवादास्पद मामलों में थर्ड पार्टी यानी किसी एक्सपर्ट को भी बुला लिया जाएगा। एक करोड़ की लागत है मशीन कीजर्मन तकनीक से बनी मशीन से लैब में मीटरों की जांच होगी। इस मशीन की कीमत एक करोड़ रुपए के आसपास है।

बोर्ड द्वारा पेसू, गया, सहरसा व मुजफ्फरपुर में मीटर टेस्टिंग लैब स्थापित हैं। लैब में मीटरों की जांच का ट्रायल शुरू-हाईटेक लैब में मीटरों की जांच का काम शुरू है। पेसू ने अपने कई हाईटेक व थ्री फेज मीटरों की जांच करवायी है। मीटरों की जांच जल्द हो जाने से उपभोक्ताओं को बहुत सहूलियत हो जाएगी। विवादास्पद हाईटेक इलेक्ट्रानिक मीटरों की जांच यहां होने से समय की काफी बचत होगी। -एसकेपी सिंह, जीएम पेसू पटना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिजली बोर्ड का पहला हाईटेक लैब बनकर तैयार