DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तजाकिस्तान बनाना चाहता है गुरुदेव के नाम पर विश्वविद्यालय

तजाकिस्तान के राजदूत ने कहा कि उनकी सरकार चाहती है कि वहां एक विश्वविद्यालय का नाम गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर के नाम पर रखा जाए और तजाक लेखक मिर्जा तरसुनजादे के नाम पर यहां भी एक स्थान का नामकरण किया जाए।

गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर की 150वीं जयंती पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में भारत में तजाकिस्तान के राजदूत सईदबेग सैदोव ने कहा कि रवीन्द्रनाथ ठाकुर की 150वीं जयंती पर उनकी सरकार एक विश्वविद्यालय का नामकरण उनके नाम पर करना चाहती है और प्रसिद्ध तजाक लेखक मिर्जा तरसुनजादे के नाम पर यहां भी एक स्थान का नामकरण किया जाए।

साहित्य अकादेमी और संस्कृति मंत्रालय के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने बताया कि मिर्जा तरसुनजादे की इस वक्त जन्मशती चल रही हैं और वह रवीन्द्रनाथ टैगोर से काफी प्रभावित रहे हैं। इस संबंध में दोनों देशों के बीच जल्द होने वाली द्विपक्षीय वार्ता में चर्चा होगी।

इस मौके पर प्रख्यात विद्वान और समालोचक इंद्रनाथ चौधरी ने कहा कि गुरुदेव का काफी समय प्रकृति के बीच बीता और उन्होंने मानव एवं प्रकृति के संबंध को अपनी रचनाओं में उतारा। गुरुदेव की मानवीय एकता और आधुनिकता पश्चिम को कतई गंवारा नहीं थी और उनके लिए राष्ट्र भौगोलिक नहीं बल्कि विचार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तजाकिस्तान बनाना चाहता है गुरुदेव के नाम पर विश्वविद्यालय