DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाब में गिरफ्तार विधायक को सरकार का समर्थन

पंजाब सरकार ने भ्रष्टाचार के एक मामले में गिरफ्तार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक राज खुराना के प्रति समर्थन व्यक्त करते हुए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की कार्यपद्धति पर सवाल खड़े किए हैं।

खुराना राज्य के मुख्य संसदीय सचिव हैं। उन पर 1.5 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार के एक मामले में लिप्त होने का आरोप है। सीबीआई ने इस मामले में पंजाब के दो अन्य मंत्रियों की संलिप्तता को लेकर भी आशंका जाहिर की है। इन दोनों मंत्रियों में मनोरंजन कालिया और स्वर्ण राम शामिल हैं।

पंजाब के मुख्य सचिव एससी अग्रवाल ने चण्डीगढ़ परिक्षेत्र के सीबीआई के उपमहानिरीक्षक को शुक्रवार रात लिखे एक पत्र में राज्य के दोनों मंत्रियों और खुराना का खुलेआम समर्थन किया है। पत्र में कहा गया है, ‘‘सत्यापन रपट और संलग्न प्रतिलिपियों से राज खुराना के खिलाफ कार्रवाई का आधार स्पष्ट नहीं है। इन दस्तावेजों के साथ स्वर्ण राम से प्राप्त कोई भी ‘नोट’ संलग्न नहीं है। वह सोसायटी रजिस्ट्रार के कार्यालय के मामलों से सम्बद्ध भी नहीं हैं।’’

पत्र में लिखा है कि जैसा कि प्रतिलिपियों और सत्यापन रपट में राज खुराना और कालिया के कार्यालय से कोई नोट/फाइल के पाए जाने के संदर्भ में बात कही गई है, ऐसी कोई टिप्पणी/फाइल नहीं पाई गई है। ऐसी स्थिति में यह स्पष्ट नहीं है कि राज खुराना की किसी अनुपस्थित फाइल को बंद कराने में क्या भूमिका हो सकती है।

ज्ञात हो कि पंजाब आटोमोबाइल मेकेनिक एसोसिएशन ने सीबीआई में शिकायत की थी कि राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी देविंदर सिंह बिट्ट ने एसोसिएशन के खिलाफ लम्बित एक मामले को रफा-दफा करने के लिए 1.5 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगी थी।

बिट्ट ने कहा था कि वह खुराना के जरिए मामले को रफा-दफा करवाएंगे। खुराना इस मामले में पंजाब के मंत्रियों से पहले ही बात कर चुके थे। बिट्ट ने धमकी दी थी कि यदि रिश्वत राशि का भुगतान नहीं किया गया तो एसोसिएशन का नियंत्रण सरकार के हाथों में चला जाएगा और एसोसिएशन के पदाधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कराया जाएगा।

बिट्ट को भी गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया था। खुराना और बिट्ट को दो दिनों के लिए सीबीआई की हिरासत में भेज दिया गया था। इस बीच सीबीआई अधिकारियों ने कहा है कि उनके पास खुराना और अन्य के खिलाफ इस मामले को चलाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं। सीबीआई इस मामले में पूछताछ के लिए कालिया को भी तलब कर सकती है।

ज्ञात हो कि खुराना को गुरुवार सुबह उनके आवास से गिरफ्तार किया गया था। इसके पहले सेक्टर 39 स्थित खुराना के आवास पर बुधवार को छापा मारा गया था और छापे की कार्रवाई पूरी रात चली थी। बिट्ट के आवास से एक महंगी पॉर्श कार पाई गई थी और कार से लगभग 15 लाख रुपये नकद और चेक बरामद हुए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंजाब में गिरफ्तार विधायक को सरकार का समर्थन