DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..फोन कॉल, जो लादेन के लिए बना काल!

..फोन कॉल, जो लादेन के लिए बना काल!

अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन के मुख्य संदेशवाहक अबु अहमद अल-कुवैती द्वारा एक पुराने मित्र से फोन पर बात करना लादेन के लिए घातक साबित हुआ। फोन कुवैती के मित्र ने किया था और इसी के आधार पर अमेरिका लादेन के ठिकाने तक पहुंच सका।

समाचार पत्र ‘वाशिंगटन पोस्ट’ ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि यह फोन कॉल अमेरिका द्वारा लादेन के खिलाफ एक दशक से चलाए जा रहे तलाशी अभियान का एक प्रमुख क्षण थी।

अखबार ने कहा है कि अमेरिकी खुफिया एजेंसियां कम से कम चार वर्षों से कुवैती की तलाश में थीं। दोस्त के साथ फोन पर बातचीत से खुफिया एजेंसियों को कुवैती के सेलफोन का नम्बर मिल गया। बड़े पैमाने पर मानवीय एवं तकनीकी सूत्रों के इस्तेमाल के जरिए अंतत: उन्होंने कुवैती को उस परिसर में ढूंढ निकाला।

अखबार ने कहा है कि इस तीन मंजिली इमारत में न तो फोन कनेक्शन था और न इंटरनेट की सुविधा ही। इस कारण नेशनल सिक्युरिटी एजेंसी द्वारा इस्तेमाल में लाई जा रही प्रौद्योगिकी परिसर को ढूंढ पाने में विफल हो रही थी। अमेरिकी अधिकारी इस बात को जानकर दंग रह गए कि जब भी कुवैती या अन्य कोई व्यक्ति फोन करने के लिए परिसर से बाहर जाता था तो वह कोई 90 मिनट की यात्रा करने के बाद ही सेलफोन में बैटरी लगाता था।

वाशिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि परिसर में फोन पर बात करने से परिसर के इलेक्ट्रॉनिक चौकसी में आने की आशंका थी। इस कारण परिसर के निवासी ऐसा करने से बचते थे। जब खुफिया अधिकारियों ने परिसर के सैटेलाइट से मिली तस्वीरों का परीक्षण किया तो उन्होंने देखा कि एक व्यक्ति लगभग हर रोज एक या दो घंटे अहाते में टहलता है।

वह व्यक्ति इधर-उधर टहलता था और उसके तत्काल बाद विशेषकों ने उसे ‘‘पेसर’’ कहना शुरू किया। सैटेलाइट इमेज से उस व्यक्ति का चेहरा स्पष्ट नहीं हो पाया था। पेसर कभी भी परिसर से बाहर नहीं गया। उसकी दिनचर्या से पता चलता था कि वह पूरी तरह एक कैदी है। क्या टहलने वाला व्यक्ति लादेन है?

अखबार ने कहा है कि अंतत: कई आकलनों के बाद यह निष्कर्ष निकला कि इस बात की 60 से 80 प्रतिशत सम्भवना है कि परिसर में लादेन ही है। नेशनल काउंटर टेररिज्म सेंटर के प्रमुख, माइकल लीटर ने इस सम्भावना को लगभग 40 प्रतिशत बताया।

अखबार ने कहा है कि व्हाइट हाउस में आयोजित एक बैठक में शामिल एक व्यक्ति ने जब कहा कि सफलता की बहुत कम उम्मीद है, तो लीटर ने कहा कि यह बात सही है, लेकिन हमें जो जानकारी मिली है, वह इसके पहले मिली जानकारियों से 38 प्रतिशत बेहतर है।

अखबार ने अधिकारियों के हवाले से लिखा है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार कार्रवाई को हरी झंडी देने को लेकर एकमत नहीं थे, फिर भी ओबामा ने इसे मंजूरी दे दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:..फोन कॉल, जो लादेन के लिए बना काल!