DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बरी आरोपी को अदालत में चुनौती

बरी आरोपी को अदालत में चुनौती

कनाडा के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री उज्ज्वल दोसांज ने शुक्रवार को कहा कि वह एयर इंडिया कनिष्क विमान विस्फोट मामले में बरी किए गए आरोपी रिपुदमन सिंह मलिक को अदालत में चुनौती देंगे, जहां उसे विस्फोट में अपनी कथित भूमिका के संबंध में सवालों के जवाब देने होंगे। इस हमले में 329 लोगों की मौत हुई थी।

मलिक पर 23 जून 1985 को कनाडा से नई दिल्ली जा रहे एयर इंडिया के विमान को आयरलैंड तट के करीब विस्फोट से उड़ाने का आरोप है। खालिस्तानी चरमपंथियों पर वर्ष 1984 में स्वर्ण मंदिर में हुई कार्रवाई का बदला लेने के लिए यह हमला करवाने का आरोप है।

मलिक और उसके सहयोगी अजैब सिंह बागरी को लंबी सुनवाई के बाद वर्ष 2005 में बरी कर दिया गया था। आपराधिक सुनवाई के दौरान मलिक से कोई सवाल नहीं पूछे गए थे इस दौरान उसने अपने चुप रहने के अधिकार का उपयोग किया था, लेकिन इस बार उसे बम विस्फोट मामले में कथित भूमिका को लेकर कई मुश्किल सवालों का जवाब देना होगा।

उधर, अपनी याचिका में मलिक ने कहा है कि चुनाव प्रचार के दौरान दोसांज ने उनकी छवि खराब करने वाले आरोप लगाए हैं। दोसांज के खिलाफ याचिका दायर करने के बाद मलिक ने एक बयान में कहा, ‘‘मेरे बरी होने के बाद भी मीडिया और जनता के बीच कुछ लोग मुझे दोषी मानते थे। जब कोई मुझे दोषी कहता था तो मैं उसका जवाब नहीं देने का प्रयास करता था, लेकिन अब मैं मेरा नाम खराब करने वाले लोगों को इसकी और इजाजत नहीं दे सकता।’’

दोसांज ने इसके जवाब में कहा कि अदालती कार्रवाई में उन्हें बम विस्फोट की साजिश में मलिक का हाथ होने की बात साबित करने का मौका मिलेगा। उन्होंने कहा, ‘‘आपराधिक मामले में सुनवाई के दौरान मलिक ने अपने चुप रहने के अधिकार का इस्तेमाल किया था लेकिन नागरिक दीवानी मामले में उसे कई सवालों का जवाब देना पड़ेगा।’’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बरी आरोपी को अदालत में चुनौती