DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लव का दि एंड

लव का दि एंड

कहानी: यह जिन्दगी को जीने के नए रंग-ढंग में नई पीढ़ी के सामने आ रही नई तरह की परिस्थितियों का मुकाबला करने की कहानी है। रिया (श्रद्घा कपूर) कॉलेज की चुलबुली लड़कियों में से एक है, जो कॉलेज के ही एक अमीर लड़के लव नंदा (ताहा शाह) को चाहती है।

रिया अपने 18वें जन्मदिन पर अपने रिश्ते को गहरी पहचान देने की योजना बनाती है। लेकिन तभी यह राजफाश होता है कि लव तो बीबीसी (बिलियनेयर ब्वॉयज क्लब) का सदस्य है, जिसके मेंबर लड़कियों के हिडन कैमरे से वीडियो बना कर इंटरनेट पर अपने नंबर बढ़ाने में  लगे रहते हैं। यह जान कर रिया अपने दोस्तों की मदद से लव को सबक सिखाती है।

फिल्म में युवाओं की जिंदगी में मोबाइल कैमरा, एसएमएस और इंटरनेट के बढ़ते दखल को दिखाया गया है। यह एमटीवी की वीजे रहीं शेनाज ट्रेजरीवाला की लिखी आपबीती है, जिसमें उन्होंने अपने ब्वॉयफ्रेंड की बेवफाई को परोसा है। 

निर्देशन: निर्देशक बम्पी ने एक अच्छी कहानी का बड़ा खराब ट्रीटमेंट किया है। उन्होंने नए दौर की मायनेदार कहानी को ढंग से समझाने की बजाय उलझाया ज्यादा है। फिल्म पर निर्देशक की पकड़ इस बात से साबित होती है कि दर्शकों तक उसका संदेश सही और सहज रूप में जाए। बम्पी यहां असफल रहे, जिससे फिल्म अटकी रह गई है। 

अभिनय: फिल्म तीन पत्ती से अपने करियर की शुरुआत करने वाली शक्ति कपूर की बेटी श्रद्धा कपूर ने रिया के पात्र को बखूबी निभाया है, पर उनके जोड़ीदार ताहा शाह कहीं नहीं जमे। बाकी कलाकारों के पल्ले कुछ करने को था नहीं।

गीत-संगीत: फिल्म में गीत-संगीत के नाम पर सिर्फ उबाऊ शोर-शराबा है। एक आइटम गीत ‘मटन’ है, जिसके बोल तो घटिया हैं ही, प्रस्तुति भी बहुत खराब है। इसे अब तक का सबसे खराब आइटम सांग कहा जा सकता है। इसमें याद रखने लायक कुछ भी नहीं है। एक गीत की धुन ‘तू चीज बड़ी है मस्त-मस्त’ का संशोधित संस्करण लगती है। राम संपत को ऐसी नकल से काम नहीं चलाना चाहिए था।

क्या है खास: महानगर की हाई सोसाइटी में हाई तकनीक और आधुनिक सुविधाओं से उपजती समस्याओं की तरफ फिल्म ध्यान दिलाती है। यह कुछ समाधान देने के संग सतर्कता बरतने की प्रेरणा भी देती है।  

क्या है बकवास: फिल्म के बिगड़ैल हीरो को सबक सिखाने के लिए कार को तोड़ा जाना, सारी प्लास्टिक मनी उड़ा कर उसका दुरुपयोग किया जाना और बिना जरूरत बीच में गानों का आना।

पंचलाइन: यह फिल्म सीधे तौर पर अंडर-25 एज के लिए बनाई गई है। आज के महानगरीय जीवन में लव के साथ सेक्स और धोखे के जितने किस्से बढ़ रहे हैं, उसमें लव का दि एंड करते ऐसे कई किस्से अभी और फिल्माए जाते रहेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लव का दि एंड