DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विश्वविद्यालय की जमीन की बिक्री पर लगे रोकः अमरिंदर

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) की जमीन की बिक्री पर रोक लगाने की शुक्रवार को मांग की। कैप्टन सिंह ने यहां जारी एक बयान में पीएयू के निवर्तमान कुलपति डॉ. एमएस कंग द्वारा किए गए खुलासे पर कहा कि यह वास्तव में स्तब्ध कर देने वाली बात है कि राज्य की अकाली-भाजपा सरकार पीएयू की जमीन को बेचने का प्रयास कर रही थी।

उन्होंने कहा कि यह जमीन कृषि अनुसंधान कार्यों के लिए है तथा मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल इसे बेचने की सोच भी कैसे सकते हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री को यह पता होना चाहिए कि पीएयू जैसे प्रमुख कृषि अनुसंधान संस्थान के लिए बड़ी मात्रा में जमीन चाहिए लेकिन महज पैसा जुटाने के लिए इस संस्थान की बेशकीमती जमीन को बेचने की सोच कहां तक सही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि बादल के विभिन्न मुख्यमंत्रित्वकाल में पीएयू का काफी बड़ा भूभाग बेचा जा चुका है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की मौजूदा सरकार ने बठिंडा में क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण भी पीएयू की जमीन पर किया है। उन्होंने कहा कि यह भूमि कपास अनुसंधान के लिए थी और अब भूमि छिन जाने पर वहां कपास अनुसंधान कार्य भी रूक गया है।

कैप्टन सिंह ने कहा कि पंजाब दूसरी हरित क्रांति की तैयारी की ओर अग्रसर है लेकिन जब वैज्ञानिकों के पास कृषि अनुसंधान के लिए भूमि ही नहीं होगी तो दूसरी हरित क्रांति का लक्ष्य कैसे हासिल होगा।

उन्होंने डॉ. कंग के साथ राज्य सरकार और विशेषकर मुख्यमंत्री द्वारा किए गए व्यवहार पर भी आपत्ति जताते हुए दावा किया कि पीएयू के पूर्व कुलपति के साथ भी इसी तरह का व्यवहार किया गया था क्योंकि वे संस्थान के हितों को छोड़ कर सरकार के आगे झुकने को तैयार नहीं हुए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विश्वविद्यालय की जमीन की बिक्री पर लगे रोकः अमरिंदर