DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूरी हो सकेगी शूटर बनने की तमन्ना

मेलों में गुब्बारों पर निशाना लगाकर अपने शूटिंग का शौक पूरा करने वालों के लिए अच्छी खबर है, शहर में उम्दा शूटिंग रेंज की कमी दूर होगी। शहर में राज्यवर्धन सिंह राठौर, अभिनव बिंद्रा गौरव नारंग, अनीशा, अनुजा, समरेश जंग जैसे शूटर भी पैदा हो सकेंगे।

साइबर सिटी को जल्द ही राइफल क्लब का तोहफा मिलने की उम्मीद है। क्लब के बनने से आम लोगों के शूटर बनने की राह तो आसान होगी ही शूटिंग के क्षेत्र में नई प्रतिभाएं भी सामने आएंगी। क्लब, सीआरपीएफ शूटिंग रेंज में ही बनेगा।


लंबे समय से शहर में आम लोगों के लिए शूटिंग रेंज न होने से स्थानीय स्तर पर खेल को बढ़ावा नहीं मिल पा रहा था। शहर में सीआरपीएफ कैंप में ही शूटिंग रेंज है जिसमें कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान फुलबोर शूटिंग इवेंट और हाल ही में नेशनल चैंपियनशिप आयोजित की गई थी। यह रेंज सीआरपीएफ ऐसे बड़े आयोजनों के लिए ही मुहैया करा सकता है। अब सीआरपीएफ ने ही शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए राइफल क्लब बनवाने की पहल की है। पूर्व आईजी और शूटिंग रेंज के कोच तेजेंदर सिंह ढिल्लो ने बताया कि कादरपुर में बने यह शूटिंग रेंज देश के किसी भी रेंज से बेहतर है। इसमें 25 मीटर, 50 मीटर, 300 मीटर और एक हजार यार्डस की रेंज उपलब्ध हैं साथ ही बाहर से आने वाले खिलाड़ियों के लिए भरपूर सुविधाएं हैं। हमने यहां राइफल क्लब बनाने के लिए प्रस्ताव भेजा है जिससे महानिदेशक के विजयकुमार की भी मंजूरी मिल गई है। इसलिए यहां जल्द ही क्लब बनाने की योजना है। इससे सिविलियन भी शूटिंग का मजा ले सकेंगे और हरियाणा को नए शूटर मिलेंगे। कादरपुर में बना शूटिंग रेंज कॉमनवेल्थ गेम्स में आए विदेशी खिलाड़ियों को भी खूब भाया था। स्कॉटलैंड के खिलाड़ियों का तो यहां तक कहना था कि काश ऐसी रेंज हमारे देश में होती। कॉमनवेल्थ शूटिंग फेडरेशन के अध्यक्ष ग्रैम जे हडसन ने भी इस उम्दा की जमकर तारीफ की थी। हाल ही में संपन्न हुई नेशनल चैंपियन में 300 मीटर शूटिंग इवेंट में इलेक्ट्रॉनिक टारगेट का इस्तेमाल भी किया गया था। इससे परिणाम में ज्यादा शुद्धता आती है और मैनुअली कैलकुलेशन से बेहतर नतीजे मिलते हैं। सीआरपीएफ कैंप में क्लब बनने से अच्छे कोच और विश्वस्तरीय सुविधाओं का फायदा खिलाड़ियों को मिलेगा। फिलहाल अंतर्राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए जिन राइफलों से प्रैक्टिस की जाती है उनकी कीमत 75 हजार से शुरु होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूरी हो सकेगी शूटर बनने की तमन्ना