DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत ने चीनी जहाज को समुद्री लुटेरों से छुड़ाया

दशकों के मनमुटाव को किनारे करते हुए चीन ने खुलकर भारत से अपने एक व्यापारिक पोत को समुद्री लुटेरों से बचाने का अनुरोध किया तो भारतीय नौसेना ने अपना पूरा जोर लगाते हुए आधे घंटे के भीतर हमलावरों को मार भगाया।
 
चीनी दूतावास के रक्षा अताशे ने गुरुवार को सुबह भारतीय रक्षा मंत्रालय को फैक्स भेजकर मदद मांगी और कहा कि उनका एक जहाज 'फुचेंग' यानी फुल सिटी अरब सागर में संकट में है जिस पर सोमालियाई समुद्री डाकुओं ने धावा बोल दिया है। चीन का आग्रह था कि कारवार के पश्चिम में 850 किलोमीटर दूर उसके जहाज को बचाने के लिए भारतीय नौसेना कार्रवाई करे।

चीनी जहाज पर 24 कर्मी सवार थे जो अपने आप को जहाज के सुरक्षित कमरों में बंद कर चुके थे। समुद्री लुटेरे उस पर सवार हो गए थे।

नौसेना के सूत्रों ने बताया कि भारत का निगरानी विमान टीयू 142 उसी इलाके में भारतीय द्वीपों की चौकसी के लिए उडान भर रहा था और चीनी जहाज से मदद का संदेश मिलते ही उसे मौके की ओर रवाना कर दिया गया।

बीस मिनट के भीतर ही निगरानी विमान चीनी जहाज के सिर पर मंडराने लगा। भारतीय विमान ने बहुत नीचे आकर उडान भरीं और लुटेरों को चेतावनियां जारी कर दीं। इतना बडा विमान अपने सिर पर मंडराता देख लुटेरों के होश उड गए और उन्होंने एक नौका में बैठकर भागना शुरू कर दिया।

इस बीच चीनी दूतावास इस कार्रवाई के बारे में लगातार भारतीय नौसेना से संपर्क साधे रहा और उसे आधे घंटे के भीतर नौसेना ने खुशखबरी सुना दी कि जहाज को लुटेरों से मुक्त करा दिया गया है। जिस मौके पर चीनी जहाज पर हमला हुआ था उससे चीनी नौसेना का गश्ती जहाज करीब दो हजार किलोमीटर था और उसे मदद के लिए आने में तीन दिन लग सकते थे।
 
भारतीय नौसेना की तत्परतापूर्वक कार्रवाई के लिए चीनी कार्यबल ने आभार प्रकट किया। यह बात और है कि चीनी समाचार एजेंसी ने जब अपने जहाज के मुक्त होने की खबर दी तो भारतीय मदद का जिक्र तक नहीं किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत ने चीनी जहाज को समुद्री लुटेरों से छुड़ाया