DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ओशो प्रभाकर ने दी ओंकार दीक्षा

ओशो धारा के अमृत ध्यान कार्यक्रम में सोमवार को ओंकार दीक्षा दी गयी। जन स्मृति भवन, रातू रोड में साधकों ने ओंकार के द्वार से परमात्मा में प्रवेश की विधि को जाना। ओशो प्रभाकर ने प्रतिभागियों को दीक्षा दी। उन्होंने बताया कि यह आध्यात्मिक साधना का अंतिम चरण है। जिसे लोग घर-संसार छोड़ वर्षो की साधना से हासिल नहीं कर पाते थे, उसे ओशो धारा में एक सप्ताह में ही सहा प्राप्त कर लेते हैं। इसके लिए उन्हें घर-संसार छोड़ना भी नहीं होता। उन्होंने बताया कि महर्षि पतंजलि द्वारा बताये गये आध्यात्मिक साधना के आठ चरणों को सप्ताह भर में पूरा कर लिया जाता है। शाम में भजन और सत्संग का आयोजन किया गया। इससे पूर्व सुबह ओशो प्रभाकर ने प्रतिभागियों को ध्यान-साधना करायी। परमात्मा और सहा योग के बार में विस्तार से प्रकाश डाला। ओशो मोहन, ओशो आदित्य ने इसमें सहयोगी आचार्य के रूप में अपनी भागीदारी निभायी। सुरंद्र सिंह ने बताया कि मंगलवार को सत्संग के साथ कार्यक्रम संपन्न हो जायेगा। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ओशो प्रभाकर ने दी ओंकार दीक्षा