DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

योजना आयोग सम्मेलन की मेजबानी पहली बार बिहार को

योजना आयोग का क्षेत्रीय सम्मेलन 30-31 मई को पटना में होगा। सम्मेलन में बिहार के साथ पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़ और ओडीसा के मुख्यमंत्री शामिल होंगे। सम्मेलन में शामिल होने के लिए चार राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित करने के लिए पत्र लिखा जा रहा है।

पटना में आयोजन के संबंध में योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा था। यह पहला मौका है जब बिहार को ऐसे सम्मेलन की मेजबानी का मौका मिला है। इसके पहले आयोग के क्षेत्रीय सम्मेलन में पश्चिम बंगाल अथवा गुवाहाटी में होते रहे हैं।

योजना आयोग के सम्मेलन में बारहवीं पंचवर्षीय योजना के एप्रोच पेपर (2012-13-2017-18) पर विचार-विमर्श होगा। सम्मेलन में योजना आयोग के उपाध्यक्ष सहित आयोग के सलाहकार शामिल होंगे। दो दिवसीय सम्मेलन में पांच राज्यों के अधिकारी, पंचायत राज संस्थाओं, सिविल सोसाइटी, उद्योग व व्यवसाय जगत से जुड़े प्रतिनिधि शामिल होंगे।

योजना एवं विकास विभाग लगभग लगभग दौ सौ अतिथियों के ठहरने आदि की व्यवस्था कर रहा है। योजना आयोग के साथ 30 मई को पहले दिन के सत्र में पांचों राज्यों के अधिकारियों के साथ विमर्श होगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के स्वागत भाषण के बाद योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया बारहवीं योजना को लेकर अपने विचार रखेंगे।

उसी दिन दूसरे सत्र में पंचायत प्रतिनिधियों से विचार होगा। 31 मई को पहले सत्र में सिविल सोसाइटी के साथ और दूसरे सत्र में व्यवसाय और उद्योग से जुड़े प्रतिनिधियों से बातचीत होगी। आयोग एप्रोच पेपर विचार-विमर्श के बाद ही उसे अंतिम रूप देता है। योजना एवं विकास विभाग के प्रधान सचिव विजय प्रकाश ने बताया कि बिहार में विकास का जो वातावरण बना है उसको ध्यान में रखकर ही आयोग ने क्षेत्रीय सम्मेलन पटना में आयोजित करने का फैसला किया है। यह बिहार के लिए गौरव की बात है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:योजना आयोग सम्मेलन की मेजबानी पहली बार बिहार को