DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छह कोच वाली मेट्रो से भीड़ हुई कम

मेट्रो में अब भीड़ कम होने लगी है। ऐसा नहीं कि रोजाना सफर करने वाले यात्राियों की संख्या में कमी हुई है बल्कि छह कोच वाली मेट्रो की संख्या बढ़ने से ट्रेन में भीड़ नजर कम आती है।

छह कोच वाली मेट्रो के बेड़े में पांच मेट्रो ट्रेन और बढ़ोतरी हो गई है। इसी के साथ छह कोच वाली मेट्रो ट्रेनों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है। छह कोच वाली पहली मेट्रो पिछले साल क्रिसमस के दिन से चलनी शुरू हुई थी। दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन का कहना है कि पीक आवर्स में ही अधिक भीड़ की समस्या होती है और पीक आवर्स में छह कोच वाली ट्रेन चलाई जा रही है। नेटवर्क में 66 कोच बढ़ जाने का असर दिखने लगा है।

फिलहाल छह कोच वाली 33 ट्रेनों में से 17 ट्रेन नोएडा/आनंद विहार से द्वारका सेक्टर-21  वाली लाइन पर चल रही हैं। इसी प्रकार हुडा सिटी सेंटर से जहांगीरपुरी वाली लाइन पर छह कोच वाली कुल 15 ट्रेन चल रही हैं। दिलशाद गार्डन से रिठाला वाली लाइन पर छह कोच की सिर्फ एक ट्रेन चल रही है।

दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन ने इस वर्ष के अंत तक छह कोच वाली कुल 95 ट्रेन चलाने का लक्ष्य रखा है। औसतन हर सप्ताह छह कोच वाली दो नई ट्रेन लाइन पर उतर रही हैं। फेज 3 के अंतर्गत बनने वाली लाइन पर चलने वाली कोई भी ट्रेन चार कोच की नहीं होगी। इन लाइनों पर कम से कम छह कोच वाली मेट्रो ट्रेन चलाई जाएगी। अधिक कोचों की संख्या नौ होगी।

सबसे अधिक भीड़ केंद्रीय सचिवालय, राजीव चौक, नई दिल्ली, कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशनों पर देखने को मिलती है। इस भीड़ पर काबू पाने के उद्देश्य से फेज 3 के अंतर्गत केंद्रीय सचिवालय से कश्मीरी गेट तक एक लाइन बनाई जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छह कोच वाली मेट्रो से भीड़ हुई कम