DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लश्कर ए तैयबा ले सकता है अलकायदा की जगह

पाकिस्तान स्थित आतंकी समूह लश्कर ए तैयबा पूर्व पाकिस्तानी सैनिकों को भर्ती कर तेजी से अपना प्रसार कर रहा है और वह ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद अलकायदा की जगह लेने की कोशिश कर सकता है।

इस कोशिश के बावजूद उसकी इस योजना के सफल होने की संभावना नहीं है। अमेरिकी कांग्रेस की उप समिति के समक्ष सुरक्षा विशेषज्ञों ने सांसदों को बताया कि लश्कर तैयबा अफगानिस्तान में अमेरिकी बलों के खिलाफ लड़ाई में शामिल होकर भारत के खिलाफ हमले कर वैश्विक जिहाद और पाकिस्तानी चरमपंथ में शामिल होकर अपना दायरा बढ़ाने की कोशिश कर रहा है।

कार्नेजी एंडोमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस के स्टीफन टंकेल ने सांसदों से कहा कि लश्कर भले ही क्षेत्रीय स्तर पर किसी बड़ी घटना को अंजाम देने में विफल रहा हो लेकिन बिन लादेन की मौत के बाद वह बड़ी अंतरराष्ट्रीय आतंकी भूमिका की साजिश रच सकता है।

यह उल्लेख करते हुए कि समूह ने कश्मीर को लेकर अपनी सनक नहीं छोड़ी है। टंकेल ने कहा कि कश्मीर संघर्ष में ठहराव आ गया है और लश्कर के लिए वहां फिर से विद्रोह पैदा करना मुश्किल होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लश्कर ए तैयबा ले सकता है अलकायदा की जगह