DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मगध और कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपतियों की नियुक्ति रद्द

पटना उच्च न्यायालय ने राजभवन को एक बड़ा झटका देते हुए मगध विश्वविद्यालय और वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपतियों की नियुक्ति को बुधवार को रद्द कर दी। इन कुलपतियों की नियुक्ति की अधिसूचना राज्यपाल सह कुलाधिपति देवानंद कुंवर ने जारी की थी।

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के प्रोफेसर प्रमोद कुमार सिंह और अन्य लोगों द्वारा दायर याचिका को अनुमति प्रदान करते हुए न्यायमूर्ति अजय कुमार त्रिपाठी ने कुलपतियों की नियुक्ति रद्द करने का फैसला सुनाया। याचिकाकर्ताओं ने विद्वान और योग्य लोगों को कुलपति नियुक्त करने के लिए इस मामले में अदालत से हस्तक्षेप करने के लिए याचिका दायर की थी।

याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया कि बिहार विश्वविद्यालय कानून 1976 का उल्लंघन करते हुए दोनों कुलपतियों की नियुक्ति की गयी है। मगध विश्वविद्यालय के कुलपति अरविंद कुमार और वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति एसके सिन्हा की नियुक्ति में राज्य सरकार के साथ न तो विचार विमर्श किया गया और न ही सुझावों को माना गया।

अदालत ने अपने फैसले में कहा कि मगध और वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपतियों की नियुक्तियां तत्काल प्रभाव से रद्द की जाती है।

न्यायमूर्ति त्रिपाठी ने कहा कि इस बात के साफ प्रमाण हैं कि राजभवन द्वारा कुलपतियों की नियुक्ति की अधिसूचना जारी करने से पहले इस संबंध में राज्य सरकार और कुलाधिपति कार्यालय के बीच कोई विचार विमर्श नहीं हुआ जो बिहार विश्वविद्यालय अधिनियम की धारा 10(2) का उल्लंघन है। इस मामले में सुनवाई करते हुए अदालत ने बीते 18 अप्रैल को अपना फैसला सुरक्षित रखा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मगध और कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपतियों की नियुक्ति रद्द