DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन रुपए महंगा होगा डीजल!

तीन रुपए महंगा होगा डीजल!

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल के बाद सरकार घरेलू बाजार में डीजल के दाम अब और ज्यादा समय तक थामे रखने के पक्ष में नहीं लगती और इसमें तीन रुपए प्रति लीटर की बढो़तरी की योजना बना रही है।

संशोधित दाम पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव की मौजूदा प्रक्रिया पूरी होने के साथ किए जा सकते हैं। डीजल के साथ पेट्रोल के दाम में भी तीन से चार रुपए लीटर की वृद्धि की जा सकती है।

केंद्र सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को नई दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि डीजल की दरों की समीक्षा के लिए वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी की अध्यक्षता में मंत्रियों के एक अधिकार प्राप्त समूह की बैठक 11 मई को होने वाली है। अधिकारी ने अपना नाम जाहिर नहीं करने को कहा।

विधानसभा चुनाओं में आखिरी चरण का मतदान 10 मई को सम्पन्न होगा। पेट्रोल की कीमत गत वर्ष जून में नियंत्रण मुक्त कर दी गई है। डीजल के साथ ही पेट्रोल के दामों में भी कंपनियों द्वारा संशोधन किया जा सकता है।

उपरोक्त अधिकारी ने बताया कि पेट्रोलियम मंत्रालय के अधिकारियों ने मंगलवार को निर्वाचन आयोग से मुलाकत कर चुनाव के नतीजे आने से पहले पेट्रोलियम मूल्यों में संशोधन किए जाने की संभावनाओं के बारे में चर्चा की। नतीजे 13 मई को आने वाले हैं।

मंत्रियों के अधिकार प्राप्त समूह की बैठक का विषय यूं तो पेट्रोलियम का खुदरा कारोबार कर रही सरकारी कंपनियों को मूल्य नियंत्रण से होने वाली आय-हानि की भरपाई हैं। डीजल, रसोईं गैर और मिट्टी के तेल को सरकार द्वारा तय कम दाम पर बेचने से 2011-12 में उन्हें 1,80,000 करोड़ रुपए का नुकासन होने का अनुमान लगाया जा रहा है। बैठक में घरेलू रसोई गैस के दाम बढा़ने पर भी विचार किया जा सकता है।

कंपनियों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय बाजार के हिसाब से भारत में पेट्रोलियम का खुदरा कारोबार कर रही सरकारी कंपनियों को डीजल पर प्रति लीटर 18.19 रुपए और पेट्रोल पर 8.50 रुपए की कमाई की हानि हो रही है। इसी तरह मिट्टी के तेल पर करीब 30 रुपए और रसाईं गैस के 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर पर 330 रुपए की आय-हानि हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीन रुपए महंगा होगा डीजल!