DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दोरजी खांडू की मौत की पुष्टि

दोरजी खांडू की मौत की पुष्टि

अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री दोरजी खांडू समेत पांच लोगों के शव मिल गए हैं। सेना के पूर्वी कमान के सूत्रों ने बुधवार को इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि खोजी दल के सदस्यों को खांडू समेत पांच लोगों के शव भूटान-चीन सीमा के पास सेला दर्रे के इलाके में मिले हैं।

सूत्रों ने बताया कि शवों को निकालने का काम शुरू कर दिया गया है। शवों को तवांग से ईटानगर लाया जाएगा। उल्लेखनीय है कि खांडू तथा चार अन्य को ले जा रहा हेलीकॉप्टर शनिवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

पूर्वी कमान के सूत्रों के अनुसार, खांडू के साथ हेलीकाप्टर में सवार पायलट जे. एस. बब्बर और टी. एस. मामिक तथा मुख्यमंत्री के सुरक्षा अधिकारी याशी चाडूक और एशमी लामू की मौत हो गई है।

मुख्यमंत्री के हेलीकाप्टर की तलाश में आज सुबह वायुसेना के छह हेलीकाप्टरों को रवाना किया गया था। इसके अलावा जमीनी तलाश अभियान मंगलवार रात भर जारी रहा।

वायुसेना के प्रवक्ता विंग कमांडर रंजीब साहू ने बताया कि तवांग और तेजपुर से दो एमआई17, दो चीता और दो चेतक हेलीकाप्टरों को सुबह पांच बजकर पांच मिनट पर रवाना किया गया। इससे पहले वायुसेना के हेलाकाप्टरों ने सेला दर्रे के आसपास लिए कल भी उडा़न भरी थी, लेकिन खराब मौसम के कारण 45 मिनट बाद ही उन्हें लौटना पडा।

इससे पहले ईटानगर से राज्यसभा सांसद मुकुट मिथि ने बताया कि कुछ ग्रामीणों ने सेला दर्रे के समीप लाबोतांग इलाके में हेलीकाप्टर का मलबा पडे़ होने और घटनास्थल पर कुछ शवों को देखे जाने की सूचना आज सुबह करीब दस बजे दी।

यह स्थान सेला दर्रे से करीब किलोमीटर दूर दजोंग जलप्रपात के पास है। यह स्थान उस जगह के करीब है, जहां गुवाहाटी में वायु यातायात नियंत्रण से हेलीकाप्टर का शनिवार को सुबह करीब दस बजकर बीस मिनट पर अंतिम बार संपर्क हुआ था।

केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने नई दिल्ली में संवाददाताओं को बताया कि दुर्घटनाग्रस्त हेलीकाप्टर का मलबा मिल गया है तथा कुछ शव भी देखे गए हैं, लेकिन अभी शवों की शिनाख्त नहीं की गई है। चिदंबरम ने कहा कि दुर्घटनास्थल का पता लग गया है तथा कुछ शव देखे गए हैं। अभी हमें और सूचनाओं का इंतजार करना चाहिए।

उन्होंने आधिकारिक पुष्टि होने तक मीडिया को कयास लगाने से बचने की सलाह दी। थल सेना के प्रवक्ता कर्नल एन. एन. जोशी ने तेजपुर से बताया कि अरुणाचल प्रदेश और सीमावर्ती क्षेत्र के घने जंगलों में भारतीय सेना, भारत तिब्बत सीमा पुलिस, सशस्त्र सीमा बल और सीमा सड़क संगठन के तीन हजार से भी अधिक प्रशिक्षित जवान इस तलाशी अभियान में लगे हुए थे। इसके अलावा स्थानीय क्षेत्रों के एक हजार लोगों को भी इस अभियान में शामिल किया गया।

अरुणाचल प्रदेश सरकार ने इस बीच कल लापता हेलीकाप्टर के बारे में सूचना देने वाले को 10 लाख रुपए पुरस्कार देने की घोषणा की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दोरजी खांडू की मौत की पुष्टि