DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोना-चांदी की महंगाई से शादी की रौनक फीकी

सोना-चांदी के आसमान छूते भाव से भांजे-भांजियों की शादी में आभूषण गिफ्ट करने की परम्परा अब टूटने के कगार पर है। शादी के बजट का अधिकांश हिस्सा जरूरी जेवरों पर खर्च होने से शादी की रौनक फीकी होती जा रही है। बीते एक साल में सोने के भाव करीब चालीस फीसदी तो चांदी के भाव में दोगुने से अधिक की बढ़ोतरी हो चुकी है। इस बढ़ोतरी से आम लोग ही नहीं कारोबारी भी खासे परेशान हो गए हैं। अक्षय तृतीया पर शहर में शादी तो खूब है, लेकिन सर्राफा बाजार ठंडा है।


शादी में भात की परम्परा में सोने-चांदी से गहने देने की परम्परा है। परम्परा के मुताबिक भाई अपनी बहन के बच्चाों की शादी में गहने अवश्य देता है। दूल्हा-दुल्हन कुछ गहने और कपड़े मामा के लाए हुए  पहनते हैं। यजुर्वेद में भी गहनों का महत्व बताया गया है। आभूषण किसी भी अपशगुन को दूर करने के लिए आवश्यक बताए गए हैं। लेकिन आभूषणों के आसमान छूते भाव ने लोग चाहकर भी अब भात में भी जेवर देने से गुरेज करते हैं। इससे वर्षो पुरानी समाजिक परम्परा अब खतरे में हैं। सोने-चांदी के महंगे होने से नकली जेवर का कारोबार बढ़ा है। बढ़ती महंगाई से आम लोग ही नहीं बल्कि कारोबारी भी खासे परेशान है। उनकी लागत बढ़ गई है, जबकि कारोबार मंदा है। कारोबारियों के मुताबिक एक दुकान चलाने के लिए कम से कम दो किलो सोना और दस किलो चांदी तो चाहिए। अक्षय तृतीया पर खूब कारोबार होता है, लेकिन इस बार सर्राफा बाजार में कारोबार मंदा है।
रामअवतार वर्मा, अध्यक्ष, क्राफ्ट ज्वैलर्स एसोसिएशन: सोने-चांदी के आसमान छूते भाव ने कारोबारियों की कमर तोड़ दी है। ग्राहक बाजार से गायब है। अक्षय तृतीया होने के बावजूद कारोबार मंदा है। लोग नया सोना नहीं खरीद पा रहे हैं। अधिकांश लोग पुराने गहनों को तुड़वाकर ही काम चला रहे हैं। अब एक आम आदमी का जितना बजट शादी का होता है, उतना ही जेवर खरीदने में खर्च हो जाता है।
सुभाष श्योराण समाजशास्त्री : महंगाई के चलते एक नहीं अब अनेक परम्पराए समाप्त हो रही हैं। भांजे-भांजियों की शादी में कुछ जरुरी गहने व्यक्ति को खरीदने पड़ते हैं, लेकिन एक आम आदमी इतने महंगे गहने खरीदने की हिम्मत नहीं कर सकता। जरूरी गहने एक लाख से कम नहीं होते, जबकि भात का बजट बीस-तीस हजार का होता है।

सोना-चांदी के भाव पर एक नजर
3 मई 2010  3 मई 2011
सोना 16,997  22,840
चांदी 280 678
(भाव रुपये में प्रति 10 ग्राम के हैं)
 एक मध्यमवर्गीय आम शादी में दिए जाने वाले जरुरी जेवर
जेवर कीमत
लड़की के लिए अंगूठी 5 ग्राम: 12,000
गले का हार सेट तीन तोला  70,000
चूड़ी 4  70,000
नथ  12,000
टीका  12,000
मंगलसूत्र 60,000
चांदी की तगड़ी 8,000 
कड़े  90,000
बिछुए  1,000
लड़के के लिए अंगूठी  36,000 
चेन  10,000
ब्रेसलेट  40,000
(कीमत दो मई को सोना-चांदी के भाव के आधार पर लगभग रुपये में हैं)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सोना-चांदी की महंगाई से शादी की रौनक फीकी