DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लखनऊ विश्वविद्यालय में मनाया जाएगा 'वाहन त्याग दिवस'

लखनऊ विश्वविद्यालय टीचर्स एसोसिएशन (लूटा) ने विश्वविद्यालय परिसर को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए एक अनोखी पहल शुरू करते हुए महीने में एक दिन 'वाहन त्याग दिवस' मनाने का निर्णय लिया है। विश्वविद्यालय के शिक्षक परिसर में आने के लिए महीने में एक दिन अपने निजी वाहनों की जगह सार्वजनिक वाहनों का सहारा लेंगे।

लूटा के अध्यक्ष प्रोफेसर दिनेश कुमार ने बताया, ''इस कवायद का उद्देश्य विश्वविद्यालय परिसर को कम से कम एक दिन वाहनों के प्रदूषण से मुक्त रखना है। वैसे तो अध्यापन हमारी मुख्य जिम्मेदारी है, लेकिन अपने आस-पास के पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए शिक्षकों को इस मुहिम में शामिल होना चाहिए, क्योंकि हम सभी इससे प्रभावित होते हैं।''

निजी वाहनों के बिना परिसर आने का निर्णय लूटा के निर्वाचित पदाधिकारियों द्वारा सर्वसम्मति से लिया गया है। तारीख के बारे में अभी घोषणा नहीं की गई है। एक अनुमान के मुताबिक लखनऊ विश्वविद्यालय के करीब 350 शिक्षक अपनी कार, मोटरसाइकिल और स्कूटर जैसे निजी वाहनों से हर रोज आते हैं।

कुमार ने कहा कि एक बार वाहन त्याग दिवस मनाया जाना शुरू हो जाएगा तो हम प्रदूषण के स्तर को एक हद तक कम करने में सफल होंगे। उन्होंने कहा, ''हमारी यह पहल छात्रों के लिए भी एक प्रेरणा का काम करेगी। वे भी अपने आस-पास के पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए कदम उठाएंगे।''

ज्ञात हो कि लखनऊ विश्वविद्यालय के कला, विज्ञान, वाणिज्य सहित विभिन्न संकायों और पाठ्यक्रमों में करीब 30,000 छात्रों का पंजीकरण है।

लूटा महासचिव आर. बी. सिंह ने कहा, ''मेरा व्यक्तिगत तौर पर मानना है कि शिक्षक अपने छात्रों को आसानी से प्रेरित कर सकते हैं। कल्पना कीजिए कि अगर शिक्षक अपने छात्रों को महीने में एक खास दिन परिसर में वाहन न लाने के लिए समझाने में सफल रहे तो इसका कितना अच्छा परिणाम सामने आएगा।''

सिंह कहते हैं, ''इस बात को ध्यान में रखते हुए हमने यह फैसला किया कि वाहन त्याग दिवस पहले विश्वविद्यालय के शिक्षक मनाना शुरू करेंगे। इससे एक अच्छा संदेश जाएगा और बाद में निश्चित तौर पर छात्र इस पहल से प्रेरित होंगे।''

लूटा के पदाधिकारियों के मुताबिक विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों के शिक्षकों से इस पहल को लेकर बेहद सकारात्मक प्रतिक्रिया मिल रही है।

सिंह ने कहा कि विभिन्न संकायों के शिक्षकों ने भरोसा दिया है कि वे वाहन त्याग दिवस में शामिल होकर इसे एक सफल अभियान बनाने में हर सम्भव सहयोग करेंगे। विश्वविद्यालय के सामाजिक कार्य विभाग के शिक्षक ए. एन. सिंह ने कहा कि लूटा की यह पहल निश्चित तौर पर सराहनीय है। हम सभी को मिलकर पर्यावरण प्रदूषण के खिलाफ लड़ने की जरूरत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लखनऊ विश्वविद्यालय में मनाया जाएगा 'वाहन त्याग दिवस'