DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाम हुआ लाल, बंद प्रभावी

अतिक्रमण के मसले पर सरकार के रवैये के खिलाफ वाम दलों का बंद प्रभावी रहा। राजधानी में सुबह से ही वाम दलों के प्रमुख नेता और कार्यकर्ता जत्थों में झंडे, पोस्टर लिए जुलूस की शक्ल में निकले। जुलूस में महिलाएं भी शामिल थीं।

कार्यकर्ताओं ने सरकार के खिलाफ रोषपूर्ण नारेबाजी की। सड़क पर उतरे सभी प्रमुख नेताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। भाकपा, माकपा, माले, मासस, आरएसपी तथा फाब्ला ने साझा रूप से बंद बुलाया था। बंद को विपक्ष का भी नैतिक समर्थन प्राप्त था। जगह-जगह झाविमो के कार्यकर्ता भी सड़क पर उतरे थे। बंद के दरम्यान तोड़फोड़ या किसी घटना की खबर नहीं है।

बगोदर, निरसा में बंद समर्थकों ने जीटी रोड को जाम किया। रामगढ़ समेत कई जगह एनएच भी ठप करा दिया गया था। बंद को लेकर कोयले का उत्पादन, ढुलाई भी प्रभावित हुआ। बड़े शहरों में मंडियां वीरान रही। रांची से खुलने वाली लंबी दूरी की बसें नहीं चली। दोपहर बाद यातायात सामान्य हुआ।

राजधानी में अधिकतर स्कूल बंद रहे। हालांकि सरकारी और सार्वजनिक प्रतिष्ठान खुले रहे। टेंपो, रिक्शा भी चले। छिटपुट दुकानें खलीं। माकपा के राज्य सचिव ज्ञानशंकर मजुमदार, भाकपा के राज्य सचिव भुवनेश्वर मेहता, माले के राज्यसचिव जनार्दन प्रसाद, आरएसपी के राज्य सचिव राधाकांत झा, केडी सिंह, सुधीर दास, डीडी रामानांदन, प्रकाश विप्लव, प्रफुल्ल लिंडा, भुवनेश्वर केवट, अनिल अंशुमन, एपवा की सुनीता समेत कई प्रमुख वाम नेताओं को गिरफ्तार किया गया। उन्हें जयपाल सिंह स्टेडियम में रखा गया था।

19 को रेल रोको कार्यक्रम
माकपा के राज्य सचिव ज्ञानशंकर मजुमदार ने बताया है कि 19 को रेल रोको का कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम के जरिये केंद्र सरकार से पीएसयू के मामले में मंशा स्पष्ट करने की मांग रखी जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वाम हुआ लाल, बंद प्रभावी