DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरटीआई के ग्रैंड फिनाले की शुरुआत फरीदाबाद से

सुनने में थोड़ा अटपटा सा लगता है, पर यह सच है। सूचना के अधिकार को लेकर ग्रैंड फिनाले होने जा रहा है। इससे पहले देशभर में 100 दिन तक एक-एक आरटीआई डालने का अभियान चलेगा। इसकी शुरुआत फरीदाबाद के न्यू टाउन स्टेशन व बाटा फ्लाईओवर के मसले से हो गई है। इसी क्रम में 14 अगस्त को दिल्ली के सिरीफोर्ट ऑडीटोरियम में इसको लेकर एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा, जिसमें सौ आरटीआई के परिणामों की विस्तृत जानकारी सार्वजनिक की जाएगी।
 आरटीआई को लेकर दो मई से अभियान शुरू करने वाली संस्था है फरीदाबाद की नागरिक सुरक्षा संगठन। युवाओं के इस संगठन ने देशभर के 100 मसलों का एक मसौदा तैयार किया है। संगठन के प्रधान डेनसन जोसेफ कहते हैं कि अपराध, अत्याचार और आंतकवाद के मुद्दों को लेकर दो साल पहले इसकी शुरुआत की गई थी। अब उनकी संस्था से करीब 18 हजार लोग जुड़ चुके हैं। सभी को सेंट्रल कोर कमेटी और राज्य कमेटी का गठन कर उसमें शामिल किया गया है। राज्य के मसलों को उठाने के लिए संगठन में अलग से व्यवस्था है।
 उनका कहना है कि कॉमनवेल्थ खेलों के दौरान संगठन के सदस्यों ने कई क्षेत्रों में 15 दिनों तक युवाओं को अपराध के प्रति जागरूक किया था। अब उनकी संस्था आरटीआई के महत्व के प्रति लोगों को जागरुक करने में लगी है। सौ दिन के अभियान के लिए ग्रैंड फिनाले आयोजित करने के पीछे मकसद है लोगों को सूचना के अधिकार के प्रति जागरूक करना है। अभियान की शुरुआत फरीदाबाद के निगमायुक्त को न्यूटाउन रेलवे स्टेशन के आस-पास को फोटो और अन्य जानकारियों भेजकर वहां के अतिक्रमण की समस्याओं के बारे में जवाब तलब किया हैं। उनके मुताबिक उनके माध्यम से आरटीआई डालने वाले अपनी प्रति आरटीआईडॉटजेएनएसएसजीमेलडॉटकॉम पर 30 मई तक डाल सकते हैं, ताकि इसके भी फिनाले में शामिल किया जा सके।
आरटीआई डालने का उद्देश्य
-सामाजिक बदलाव के प्रति लोगों को जागरूक करना
-समस्याएं दूर करने के प्रति लोगों की भागीदारी बढ़ाना
-आम व्यक्ति को उसके मसले को राष्ट्रीय मंच उपलब्ध कराना
आरटीआई के लिए अवार्ड
-सबसे अधिक नंबर में आरटीई, मोस्ट इफेक्टिव प्रश्न, बेस्ट फॉलोअप ऑफ्टर आरटीआई, ईवीडेंट एक्शन, सबसे अधिक पब्लिक सपोर्ट,
कैसे जुटाते हैं धन
- उनका कहना है कि तीन तरीके से वह अपने कार्यों के लिए धन जुटाते हैं। एक मासिक बैठक के द्वारा, जिसमें सदस्य आपसी बात को शेयर करते हैं। दूसरा, जिलास्तीय बैठक में रखे मुद्दों को वहां के लोगों को शामिल कर और तीसरा, राष्ट्रीय स्तर पर अभियान में कॉरपोरेट जगत को शामिल कर।
खास पहलू
- देशभर में 18 हजार सदस्य
- आम लोगों का है संगठन
- संगठन की है सेंट्रल कोर कमेटी
- स्टेट लेबल पर भी हैं कमेटियां, जिसमें दस एक्जूक्यूटिव सदस्य होते हैं
- खास मुद्दे पर पहले स्टेट कमेटी कोर कमेटी के पास दस्तावेज भेजती है। कोर कमेटी से हरी झंडी मिलने के बाद उस पर कार्रवाई शुरू होती है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आरटीआई के ग्रैंड फिनाले की शुरुआत फरीदाबाद से