DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'भूटान से आने वाली बिजली में बिहार को हिस्सा मिले'

बिजली संकट से जूझ रहे बिहार को निजात दिलाने के मकसद से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को कहा कि भूटान से देश में आने वाली बिजली का बड़ा हिस्सा सूबे को भी मिलना चाहिए। मुख्यमंत्री अपने तीन दिवसीय दौरे पर चार मई को भूटान पहुंचेंगे।

उन्होंने कहा कि भूटान के नरेश और प्रधानमंत्री के न्यौते पर वह हिमालयी राष्ट्र की यात्रा पर जा रहे हैं। नीतीश ने कहा कि भारत सरकार के सहयोग से भूटान में कई पनबिजली परियोजनाएं स्थापित हुई है, जिससे देश को विद्युत प्राप्त होता है। इसमें से बिहार को भी हिस्सा मिलना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इस मुद्दे का भूटान की यात्रा से कुछ लेना देना नहीं है क्योंकि यह देश के भीतर का केंद्र और राज्य का विषय है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूटान में मैं कुछ पनबिजली परियोजनाओं को जाकर देखूंगा। देश में पनबिजली उत्पादन की व्यापक संभावनाएं हैं। दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संबंध है।

नीतीश कहा कि हिमालयी राष्ट्र से हमारा भावनात्मक रिश्ता है, क्योंकि भूटान के पर्यटक बिहार में बोधगया, राजगीर और नालंदा में बड़ी संख्या में आते हैं। पर्यटकों के आवागमन को सुविधापूर्ण बनाने के लिए विचार विमर्श होगा। बिहार पर्यटन निगम भूटान में एक प्रदर्शनी भी लगाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'भूटान से आने वाली बिजली में बिहार को हिस्सा मिले'