DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नगर निगम को देना होगा 12 करोड़ हचराना

रांची नगर निगम बोर्ड ने जयपाल सिंह स्टेडियम में शॉपिंग कांप्लेक्स बनाने की योजना को खारिा कर दिया है। निगम ने इसके लिए दिल्ली की कंपनी पाश्र्वनाथ के साथ करार किया था। अब करार रद्द करने पर नगर निगम को 12 करोड़ की चपत लगेगी। उसे कंपनी यानी पाश्र्वनाथ को ब्याज के रूप में दस करोड़ और हराने के रूप में दो करोड़ की राशि चुकानी पड़ेगी।ड्ढr सनद रहे कि डेढ़ साल पहले जयपाल सिंह स्टेडियम में शॉपिंग कांप्लेक्स निर्माण करने का जिम्मा किसी कंपनी को देने का निर्णय लिया गया। नगर विकास विभाग की सहमति से निगम ने इसका टेंडर निकाला। कई कंपनियों ने टेंडर भरा। प्रक्रिया पूरी करने के बाद पाश्र्वनाथ को ठेका दिया गया। नगर निगम ने कंपनी के साथ एकरारनामा भी किया। कंपनी ने एकरार के मुताबिक नगर निगम के खाते में 26 करोड़ रुपये जमा कर दिये। एकरारनामा में उल्लेख किया गया था कि अगर किसी कारण वश ठेका रद्द किया गया तो जमा राशि ब्याज के साथ कंपनी वापस लेगी। नगर निगम को हराना भी देना पड़ेगा।ड्ढr जयपाल सिंह स्टेडियम में शॉपिंग कांप्लेक्स, इंडोर स्टेडियम, तीन सितारा होटल के अलावा फूटपाथ दुकानदारों के लिए दुकान बनाने की योजना थी। इसपर करीब 50 करोड़ रुपये खर्च का अनुमान था। नगर निगम चुनाव के बाद विभाग ने इससे संबंधित प्रस्ताव निगम को लौटा दिया। कहा कि पहले बोर्ड से प्रस्ताव पारित कर भेजें। निगम बोर्ड की दो बैठकों में इसका प्रस्ताव लाया गया। लेकिन बिना चर्चा मामले को स्थगित कर दिया गया। बोर्ड की पिछली बैठक में पार्षदों ने इसका विरोध किया और फिर प्रस्ताव को खारिा कर दिया गया।ड्ढr इधर इस संबंध में पूछे जाने पर डिप्टी सीइओ डॉ मुकेश कुमार वर्मा ने कहा कि कंपनी को राशि कंपनी को लौटानी है, इसका ब्याज भी देना है। जहां तक हराना की बात है तो कंपनी के साथ ऐसी कोई वार्ता नहीं हुई है। ड्ढr बताया कि दो माह पूर्व कंपनी द्वारा राशि लौटाने के लिए नगर निगम को पत्र भेजा गया था। जिसमें राशि लौटाने का आग्रह किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नगर निगम को देना होगा 12 करोड़ हचराना