DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खादी मेला : दिख रही है देसी उद्यमिता की झलक

खादी मेला में चहुंओर देसी उद्यमिता की झलक दिख रही है। बंगाल, यूपी, राजस्थान और बिहार के ग्रामीण इलाकों में उत्पादित वस्तुओं की बिक्री जोरों पर है। मेले में आये लोग ज्ञान, धर्म और योग की जानकारी लेना नहीं भूल रहे। उड़ीसा की बमके साड़ी, संबलपुरी साड़ी और कटकी साड़ी का अलग क्रेा है। लकड़ी से निर्मित गणपति, लैंप सेट और मोढ़ा मेले की शोभा बढ़ा रहे हैं।ड्ढr खादी ग्रामोद्योग कला निकेतन बोकारो के स्टॉल में कॉटन का कुर्ता, शर्ट, पायजामा, रडीमेड शर्ट, ऊनी शॉल, सिल्क साड़ी और कंबल की बिक्री हो रही है। स्टॉल संचालक प्रकाश ने बताया कि कॉटन का कपड़ा 300 से 154 रुपये मीटर और सिल्क की साड़ी 300 से 00 रुपये तक में उपलब्ध है। सिंहभूम ग्रामोद्योग चाईबासा के स्टॉल पर कुचाई सिल्क पोली खादी, कंबल और खादी के कुर्ता की बिक्री हो रही है। स्टॉल संचालक शेषण प्रसाद ने बताया कि कुचाई सिल्क की कीमत 250 से 600 रुपये है। पोली खादी 62 से 100 रुपये में उपलब्ध है। कंबल की कीमत 500 से 00 रुपये के बीच है। खादी के कुर्ता की कीमत 154 रुपये है।ड्ढr पश्चिम बंगाल में निर्मित बेंत का सोफा लोगों में आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इसकी कीमत 8000 रुपये रखी गयी है। चूड़ी स्टैंड की कीमत 150, मोढ़ा 400 और लैंप सेट की कीमत 300 रखी गयी है।ड्ढr दूरदर्शन के स्टॉल में कला संस्कृति के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। दर्शकों से दूर्शन के बार में राय ली जा रही है। मुहर्रम पर डोरंडा में दस्तारबंदीरांची। डोरंडा सेंट्रल मुहर्रम कमेटी और नौजवान कमेटी के संयुक्त तत्वावधान में मंगलवार को दस्तारबंदी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता कमेटी के अध्यक्ष अशरफ अंसारी ने की। मौके पर रांची एडीएम और हटिया एएसपी और डोरंडा थाना प्रभारी उपस्थित हुए। अंसारी ने कमेटी की ओर से उन्हें पगड़ी बांधकर सम्मानित किया।ड्ढr कार्यक्रम में डोरंडा महावीर मंडल के अध्यक्ष सुरश प्रसाद, ओमप्रकाश सर्राफ, दीनानाथ साहू, श्रंगार पूजा समिति के अध्यक्ष राधे विजयवर्गीय, न्यू काली पूजा समिति के अध्यक्ष चंद्रमाली, जयदेव घोष की भी कमेटी की ओर दस्तारबंदी की गयी।ड्ढr अवसर पर धवताल अखाड़ा के रिावान गद्दी, मो शमीम गद्दी, मो शमीम, याकूब, सरफराज अहमद, इजराइल हक, मो फारूक, इबरार, जावेद खान, नौशाद खान, इकबाल, हाथी खाना अखाड़ा के खलीफा मो तनवीर की भी दस्तारबंदी की गयी। इस अवसर पर मुसलिम गद्दी, एनाम मास्टर, परवेज, तैयब, नौशाद, सरफराज, मो अयूब अंसारी, पप्पू राइन उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खादी मेला : दिख रही है देसी उद्यमिता की झलक