अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीएनए टेस्ट का मामला: मशीन बंद पर जांच रिपोर्ट टंच

पटना स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) ने एक ऐसा करामात कर दिखाया है जो स्तब्ध और विस्मित कर देने वाला है। चार वर्ष पूर्व यहां करोड़ों की लागत से आयी डीएनए टेस्ट मशीन अबतक स्थापित और प्रारंभ नहीं हुई पर यहां से डीएनए टेस्ट की जांच रिपोर्ट जारी कर दी जा रही है। जज पुत्री अर्चना रानी की ट्रेन से रहस्यमय गुमशुदगी जसे बहुचर्चित मामले में एफएसएल द्वारा जारी रिपोर्ट ने इस बात पर सवाल खड़ा कर दिया है।ड्ढr ड्ढr बीते 26 अगस्त को एफएसएल में लंबित प्रदशरें (नमूना) की समीक्षा करने पहुंचे एडीाी ने 16 सितम्बर को अपने जारी पत्र (ज्ञापांक-1ए) में साफ लिखा है कि ‘एफएसएल में डीएनए की जांच मशीन से नहीं की जाती है।’ पर एडीाी के इस पत्र के विपरीत पटना एफएसएल से जारी डीएनए टेस्ट रिपोर्ट ने एडीाी के पत्र पर ही सवाल खड़ा कर दिया है। गौरतलब है कि अर्चना रानी की रहस्यमय गुमशुदगी के कुछ ही दिनों के बाद कटिहार रलवे स्टेशन के पास एक महिला की क्षत-विक्षत लाश मिली थी। अर्चना के पिता, भाई और चाचा द्वारा अर्चना के रूप में उसकी निशानदेही तो नहीं की गई पर पुलिस ने एहतियात के तौर पर उस लाश के कुछ प्रदर्श नमूने के तौर पर रख लिए थे। बाद में अर्चना रानी मामले के तूल पकड़ने और अर्चना की मां द्वारा इस संदर्भ में गांधी मैदान थाने में अपने दामाद व अन्य पर मुकदमा (प्राथमिकी सं.- 30807) दर्ज कराने के बाद लावारिश लाश से लिए गए प्रदर्श को अर्चना के माता-पिता के खून के साथ डीएनए टेस्ट के लिए एफएसएल भेजा था।ड्ढr ड्ढr पटना में डीएनए टेस्ट न होने के बावजूद अर्चना रानी मामले में जो जांच रिपोर्ट सौंपी गई वह पटना प्रयोगशाला की तो है ही इस रिपोर्ट पर यहां के निदेशक श्याम बिहारी उपाध्याय और एक ऐसे तकनीशियन की हस्ताक्षर है जो इस तरह के महत्वपूर्ण रिपोर्ट पर हस्ताक्षर करने को इनटाइटल्ड नहीं है। इस रिपोर्ट में कहीं से भी यह जाहिर नहीं हो रहा कि इसकी जांच कहीं और करायी गई है। इधर इस संदर्भ में पूछे जाने पर एफएसएल के निदेशक श्याम बिहारी उपाध्याय ने कहा कि यह यहां न होकर मुंबई में हुई है। यहां के तकनीशियनों ने वहां जाकर जांच की है। उन्होंने कहा कि जहां जांच हुए उसके सार सबूत उनके पास मौजूद हैं और समय आने और उच्चाधिकारियों द्वारा मांगे जाने पर वह इसे सौंपे देंगे। उन्होंने कहा कि अगर इस जांच रिपोर्ट से उच्चाधिकारी असंतुष्ट होंगे तो उनके पास सेम्पल के अंश मौजूद हैं और जहां चाहे पुन: जांच करायी जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डीएनए टेस्ट का मामला: मशीन बंद पर जांच रिपोर्ट टंच