DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांधी के नमन और साफों की चमक के बीच शपथ

राजस्थान विधानसभा में गुरुवार को कांग्रेस के महेन्द्र चौधरी ने शपथ लेने से पहले अध्यक्ष के आसन के पीछे बने महात्मा गांधी के विशाल चित्र के समक्ष प्रणाम कर सबकों चौंका दिया। नागौर जिले के नावां से निर्वाचित महेन्द्र चौधरी अपना नाम पुकारे जाने पर शपथ स्टेंड से आगे निकलकर अध्यक्षीय आसन के पीछे गए और वहां झुककर चरखा कातते गांधीजी के चित्र के समक्ष नमन किया और इसके बाद उन्होंने शपथ ली। सदन में गुरुवार को पगड़ियों और साफों की भरमार थी। लगभग 28 सदस्यों ने अपने अपने इलाके की शैलियों के अनुरूप रंग बिरंगी पगड़ियां और साफे बांध रखे थे। इनमें मंत्री हरजीराम बुरडक, हेमाराम चौधरी और महेन्द्रजीत मालविया तथा देवासी समाज के गुरु आेटाराम शामिल थे। पैर में चोट लगने के कारण भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के डॉ फूलचंद भिण्डा और रवीन्द्र बोहरा शपथ लेने के लिए अपनी सीट से वाकर के सहारे चलकर आए। सदन में सबसे कम आयु (26 वर्ष) के अभिषेक मटोरिया (भाजपा) के शपथ लेने पर सदस्यों ने मेजें थपथपाकर उनका स्वागत किया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ सी पी जोशी को केवल एक वोट से हराने वाले कल्याण सिंह चौहान के शपथ लेने पर भी मेजें थपथपाई गई। भाजपा के हनुमान बेनीवाल ने शपथ लेने के बाद इस बात पर आपत्ति जताई कि सदन के नेता अशोक गहलोत के बाद विपक्ष की नेता वसुंधरा राजे को शपथ दिलाई जानी चाहिए थी। इस संदर्भ में उन्होंने लोकसभा की परंपरा का उल्लेख किया। प्रोटेम स्पीकर देवीसिंह भाटी ने कहा कि इस बारे में संविधान विशेषज्ञ चर्चा करेंगे। कांग्रेस की रीता चौधरी ने सदन में गांधी टोपी की कमी का उल्लेख करते हुए शपथ में अपने पिता पूर्व मंत्री रामनारायण चौधरी का नाम लिया। इस पर भाजपा के राजेन्द्र राठौड ने आपत्ति की कि शपथ के प्रारुप में इस तरह का कोई प्रावधान नहीं है। हंसी के बीच भाटी ने कहा कि शपथ में ईश्वर का नाम ही दर्ज होगा। भाजपा के रोहिताश कुमार ने अध्यक्ष के आसन के पास आकर भाटी को सैलूट देकर अभिवादन किया। कई सदस्यों ने भाटी के चरण स्पर्श किए। काफी संख्या में कांग्रेस सदस्यों ने शपथ के बाद में अथवा पहले अशोक गहलोत के पैर छुए। इसी तरह भाजपा के सदस्यों ने अपने दल की नेता वसुंधरा राजे के चरण स्पर्श किए। कई सदस्यों ने उनसे हाथ मिलाया जिनमें सत्तारूढ़ दल के सदस्य भी शामिल थे। अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित पिंडवाडा आबू निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस विधायक गंगा गरासिया परंपरागत वेशभूषा में थी। सिरोही से चुने गए भाजपा के आेटाराम देवासी ने धर्मगुरु के रूप में लाल किनारी वाला श्वेत परिधान तथा लाल पगड़ी धारण की हुई थी। पीली आेढ़नी ओढ़े रायमंत्री गोलमा सबके आकर्षण का केन्द्र बनी हुई थी। कार्रवाई आरंभ होने से पहले काफी संख्या में सदस्य सदन में पहुंच गए थे और उन्होंने एक दूसरे को हाथ मिलाकर गले लगकर बधाई दी। नए सदस्यों को अपनी सीटें ढूंढ़ने में काफी कठिनाई आई। मुख्य सचेतक वीरेन्द्र बेनीवाल तथा भाजपा के राजेन्द्र राठौड ने उनकी मदद की। भाजपा के बागी डॉ किरोडी लाल मीणा अपनी पत्नी रायमंत्री गोलमा का हाथ पकड़कर पर्यटन मंत्री बीनाकाक के साथ सदन में आए। गोलमा को उनकी निर्धारित सीट पर बिठाने तक डॉ मीणा उनका हाथ पकड़े रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गांधी के नमन व साफों की चमक के बीच शपथ