DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फचर्ाी कक्षाएँ चलाने वाले भी बन गए परीक्षा केन्द्र

ािस स्कूल को फर्ाी कक्षाएँ चलाने का दोषी पाया गया था अधिकारियों ने उसे भी बोर्ड परीक्षा केन्द्र बना डाला। सरोनीनगर के क्रिएटिव कान्वेन्ट हाईस्कूल में निरीक्षण के दौरान इंटरमीडिएट की कक्षाएँ चलती मिली थीं। खुदोिला विद्यालय निरीक्षक गणेश कुमार ने यह मामला पकड़ा था। अब इस स्कूल को परीक्षा केन्द्र बनाएोाने पर अधिकारियों के पास कोईोवाब नहीं है।ड्ढr क्रिएटिव कान्वेन्ट हाईस्कूल के संचालक योगेन्द्र सचान स्वीकारते हैं कि उनके स्कूल कीोाँच हुई थी लेकिन अधिकारीोो दावा कर रहे थे वह गलत हैं। उन्होंने कोई गलती नहीं की थी। वह कहते हैं कि वह तो खुद आश्चर्य में हैं कि आखिर उनके स्कूल को परीक्षा केन्द्र क्यों बना दिया गया। अब सवाल यह उठता है कि स्कूलों कीोाँच करने के बाद अधिकारी एफआईआर करवाने की घोषणा कर रहे थे लेकिनोाँच के छह महीने बाद भी अब तक न तो एफआईआर र्दा हुई और न ही कोई कठोर कार्रवाई।ड्ढr पुलिस द्वारा घोषित शिक्षा माफिया की लिस्ट में सूचीबद्ध एसपी सिंह के स्कूल लखनऊ पब्लिक स्कूल की दो शाखाओं को भी ने बोर्ड परीक्षा केन्द्र बना दिया है। वहीं नकल के लिए चर्चित रहे चंद्रशेखर आााद इंटर कॉलेा गहदेव को भी परीक्षा केन्द्र बनाया है। यहाँ बीते वर्षो बोर्ड परीक्षा के दौरान नकल के मामले पकड़े गए थे। अब नकल माफिया फिर यहाँोुगाड़ फिट करके धड़ल्ले से नकल करवा सकेंगे।ड्ढr इसी तरह सिटी मॉडल पब्लिक हाईस्कूल भी छात्रों को पास करवाने के लिए सेटिंग करता है। आदर्श पब्लिक हाईस्कूल के परिसर में भी प्रबंधक का पूरा परिवार रहता है। वहीं बोर्ड परीक्षा केन्द्रों की सूची में चिनहट का रामकृष्ण एकेडमी भी है। यह मानकों के अनुरूप नहीं है। यहाँ प्रबंधतंत्र का परिवार भी रहता है। वहीं रााीपुरम के देशभारती इंटर कॉलेा को भी मानकों की अनदेखी कर बोर्ड परीक्षा केन्द्रों की सूची में शामिल कर दिया गया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फचर्ाी कक्षाएँ चलाने वाले भी बन गए परीक्षा केन्द्र