DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

6 दिन चली हड़ताल, 27 मरीचा़मरे।

छह दिन तक रिम्स में चली हड़ताल के दौरान मरीाों का बुरा हाल रहा। इस अवधि में कुल 27 मरीाों की मौत हुई। गुरुवार को भी पांच की मौत हुई। इन छह दिन में करीब 700 मरीाों ने अस्पताल छोड़ा। गुरुवार को हड़ताली जूनियर डॉक्टरों ने दिन में नया साल नहीं मनाया और निदेशक कार्यालय के समक्ष धरना दिया। डॉक्टरों ने यह भी आरोप लगाया कि रिम्स प्रबंधन घायल डॉ धर्मेद्र को दवाइ तक नहीं दे रहा है। एमजीएम के जूनियर डॉक्टरों ने रिम्स में चल रही हड़ताल का समर्थन करते हुए गुरुवार को काला बिल्ला लगाकर काम किया।ड्ढr एम्स में होगा डॉ धर्मेद्र का इलाजड्ढr मारपीट में घायल डॉ धर्मेद्र का इलाज एम्स दिल्ली में कराया जायेगा। इलाज पर होने वाले खर्च का वहन राज्य सरकार करगी। गुरुवार को समझौैता वार्ता में इस मुद्दे पर सहमति बनी। अभी डॉ धर्मेद्र का इलाज रिम्स के न्यूरो यूनिट में चल रहा है।ड्ढr चार डॉक्टरों ने की पहलड्ढr रिम्स के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल समाप्त कराने में रिनपास के पूर्व डायरक्टर डॉ अशोक प्रसाद, स्वास्थ्य सचिव के ओएसडी डॉ एसके चौधरी, रिम्स टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ तुलसी महतो और आइएमए के रांची जिला सचिव डॉ प्रभात कुमार की अहम भूमिका रही। स्वास्थ्य सचिव के निर्देश पर इन डॉक्टरों ने गुरुवार को दिनभर जूनियर डॉक्टरों से बातचीत की तथा वार्ता के लिए उन्हें राजी किया।ड्ढr देर शाम आइएमए में समझौते के बिंदू तय किये गये तथा रात में सचिव के साथ वार्ता में भी इनकी भूमिका सराहनीय रही। जेडीए की ओर से डॉ तोमर, डॉ जितेंद्र सिंह मुंडा ने भी सराहनीय भूमिका निभाई।ड्ढr शॉपिंग कांप्लेक्स का विरोधड्ढr रिम्स टीचर्स एसोसिएशन की गुरुवार को हुई बैठक में प्रस्ताव पास कर सरकार से शैक्षणिक-आवासीय परिसर को 10 फीट ऊंची चहारदीवारी से घेरने, दो फीट फेंसिंग कराने, शॉपिंग कांप्लेक्स को यात्री निवास में बदलने और 27 की घटना की जांच रिटायर जज से कराने की मांग की गयी। बैठक में डॉ तुलसी महतो, डॉ एके श्रीवास्तव, डॉ डीके झा, डॉ विनय कुमार, डॉ एके महतो, डॉ जर्नादन शर्मा, डॉ मनोज राय, डॉ सीबी शर्मा, डॉ शीतल मलुवा, डॉ जेके मित्रा, डॉ आरके सिंह, डॉ आरके श्रीवास्तव व अन्य मौजूद थे।नये साल पर जुटी भीड़रांची। नये साल के पहले दिन मोरहाबादी मैदान में आयोजित खादी मेला में लोगों की भीड़ उमड़ी। साल के पहले दिन अगर खरीदारी, गीत-संगीत के साथ ही फन और मनपसंद भोजन एक ही जगह पर उपलब्ध हो, तो भला इससे अच्छी शुरुआत क्या हो सकती है। शायद इस कारण ही मेले में आज काफी संख्या में महिलाएं और बच्चे दिखे। अवसर पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम का लोगों ने भरपूर आनंद उठाया।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 6 दिन चली हड़ताल, 27 मरीचा़मरे।