DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सबसे कठिन था 'ज़ोकोमोन' में अभिनय : अनुपम

सबसे कठिन था 'ज़ोकोमोन' में अभिनय : अनुपम

प्रख्यात अभिनेता अनुपम खेर भावुक पिता, मजाकिया व्यक्ति और धूर्त खलनायक सहित विविध प्रकार की कई भूमिकाएं निभा चुके हैं लेकिन वह कहते हैं कि उनकी आने वाली फिल्म 'ज़ोकोमोन' में दोहरी भूमिका अब तक की सबसे कठिन भूमिका थी। अनुपम इन दिनों प्रख्यात गांधीवादी अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान में उनका साथ देने की वजह से सुर्खियों में हैं। उन्होंने सत्यजीत भटकल के निर्देशन में बनी बाल फिल्म 'ज़ोकोमोन' में दो अलग किरदार निभाए हैं। वॉल्ट डिजनी स्टूडियो ने इसका निर्माण किया है। अनुपम ने नकारात्मक भूमिका निभाई है तो दूसरे किरदार में वह एक वैज्ञानिक मैजिक की सकारात्मक भूमिका में दिखेंगें। अनुपम कहते हैं कि एक अभिनेता के बतौर मैंने अब तक जो भी काम किया है उसमें यह सबसे कठिन रहा है क्योंकि दोनों ही किरदार एक-दूसरे से काफी अलग हैं। वे भाई भी नहीं हैं। उन दोनों के बीच कोई समानता नहीं है। अनुपम ने एक साक्षात्कार में कहा कि शूटिंग के दौरान ऐसे दिन भी थे जब मैंने दोनों किरदार एक ही दिन निभाए। इसके लिए मुझे घंटों तक मेकअप लेकर दृश्य देने पड़े। एक किरदार की शूटिंग के बाद मुझे दूसरे के लिए मेकअप कराना पड़ा और फिर उसकी शूटिंग करनी पड़ी। दोनों ही किरदार एकदम अलग थे इसलिए मुझे अपने अभिनय पर भी विशेष ध्यान देना पड़ा। उन्हें मेकअप कराने के लिए लगातार पांच घंटे तक एक ही स्थान पर बैठना पड़ता था। फ्रांस से आए ग्विल्यूम कास्टनेज व उनकी टीम ने मेकअप की पूरी जिम्मेदारी संभाली। अनुपम ने 80 के दशक में 'सारांश' से अपने फिल्मी करियर की शुरूआत की थी। इसमें उन्होंने एक बुजुर्ग की भूमिका निभाई जबकि उस समय उनकी उम्र 20 साल के आसपास थी। 'ज़ोकोमोन' में दर्शील सफारी और मंजरी फनीस ने भी अभिनय किया है। यह एक साधारण से लड़के की रोमांच से भरी फिल्म है, जिसे असाधारण चुनौतियों से निपटने की शक्ति मिल जाती है। फिल्म 22 अप्रैल को प्रदर्शित होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सबसे कठिन था 'ज़ोकोमोन' में अभिनय : अनुपम