अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब अपनी राह चलेंगे उपेंद्र

राकांपा से नाता तोड़ने के बाद उपेन्द्र कुशवाहा अब अपनी राह चलेंगे। उन्होंने नई पार्टी बनाने और 7 फरवरी को गांधी मैदान में ‘स्थापना महासम्मेलन’ करने का एलान भी किया। उन्होंने कहा कि राकांपा में बिहार का मुद्दा उठाने के कारण ही उन्हें सिर्फ अपमान मिला। शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने पुराने घर जदयू में वापसी की तमाम संभावनाओं को खारिज कर दिया और कहा कि उस घर पर ‘गिद्ध’ बैठ चुका है और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद भी बेचार हो गए हैं।ड्ढr ड्ढr उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार में सामंती ताकतों के एक खास घृणित समुदाय का वर्चस्व हो गया है, जहां गरीब और शोषितों की कोई नहीं सुन रहा। उन्होंने महासम्मेलन की तैयारी के लिए ‘स्वाभिमान मोर्चा’ बनाने और 13 जनवरी को तैयारियों की समीक्षा बैठक बुलाने की भी घोषणा की। श्री कुशवाहा ने कहा कि राज्य में ऐसी पार्टी की सख्त जरूरत है जो किसानों को सबसे ऊपर रखे और सामाजिक न्याय की विचारधारा को वास्तविक रूप में जिन्दा रखे। तमाम राजनीतिक दलों में समर्पित कार्यकर्ताओं को बंधुआ मजदूर समझ ‘यूज एंड थ्रो’ किया जा रहा है। बड़ी संख्या में लोग घुटन महसूस कर रहे हैं। ऐसे तमाम लोगों को साथ लेकर ही वे नया मंच तैयार करंगे। उन्होंने सत्ताधारी दल समेत कई दलों के विधायकों के साथ होने का भी दावा किया और कहा कि 7 फरवरी के बाद लोगों को इसका अहसास भी होगा। संवाददाता सम्मेलन में जुल्फिकार अली बरावी, रामबिहारी सिंह, किशोरी महतो, रामभजन निषाद, मृत्युंजय कुमार, राजेश यादव, तारकेश्वर तिवारी भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अब अपनी राह चलेंगे उपेंद्र