अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर जिले में धावा दल का गठन

बाल श्रमिकों को मुक्त कराने के लिए हर जिले में जिला पदाधिकारी के पर्यवेक्षण में धावा दल का गठन किया गया है। धावा दल के लिए राज्य भर में संविदा के आधार पर वाहन की व्यवस्था के लिए कुल 25,600 रुपए का आवंटन क्षेत्रीय पदाधिकारियों को दिया गया है।ड्ढr ड्ढr श्रम संसाधन विभाग के प्रधान सचिव व्यास जी ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में पुनर्वास के क्रम में एक हाार विमुक्त बाल श्रमिकों के लिए विमुक्ित के समय भोजन, नास्ता, वस्त्र, दवा, परिवहन व्यय एवं एक माह के राशन के लिए कुल 23 लाख रुपए का बजट उपबंध की व्यवस्था की गई है। बाल श्रमिक पुनर्वास तंत्र के सुदृढ़ीकरण योजना के अन्तर्गत कुल 1107 लाख का बजट उपबंध स्वीकृत है।ड्ढr ड्ढr उन्होंेने बताया कि बाल श्रम उन्मूलन के लिए श्रम संसाधन विभाग द्वारा चलाए जा रहे अभियान में अब तक 100 बाल श्रमिकों को मुक्त कराया गया है और 1दोषी नियोजकों के विरुद्ध न्याययिक दण्डाधिकारी के न्यायलय में अभियोजन दायर किया गया। जून 2007 से नवम्बर 2008 तक की अवधि में 47410 निरीक्षण किए गए जिसमें 288उल्लंघन पाए गए हैं। उन्होंने बताया कि विमुक्त बाल श्रमिकों को राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना द्वारा संचालित विशेष विद्यालय के लिए आवासीय विद्यालय एवं सर्व शिक्षा अभियान के अन्तर्गत संचालित विद्यालयों में नामांकन के लिए जिला अधिकारी से अनुरोध किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हर जिले में धावा दल का गठन