DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान बनेंगे इंटरनेट फ्रेंडली

ुदाल चलाने वाले हाथों की अंगुलियां कम्प्यूटर के की बोर्ड पर थिरकने लगे तो आप यही कहेंगे न कि जमाना बदल गया है। तो लीजिये, जमाने के इस बदलाव का लीडर बनने को तैयार हो रहा है बिहार। सरकार ने भी इसके लिए पूरा जोर लगा दिया है। सरकार किसानों को इंटरनेट फ्रेंडली बनाने जा रही है। पहले चरण में जिलों के चुनिंदा अधिकारियों को यह गुर सिखाया जायेगा फिर वे किसानों को देंगे नेट चलाने की जानकारी।ड्ढr ड्ढr कृषि मंत्री नागमणि के अनुसार उन्हें इलेक्ट्रानिक मार्केटिंग की जानकारी दी जायेगी ताकि वे नेट पर अपने उत्पाद का विश्व के बाजारों में भाव देख सकें। कम्प्यूटर भी उपलब्ध करायेगी सरकार। हर प्रखंड में एक किसान सलाहकार केन्द्र खोलने की योजना को इससे जोड़ा जायेगा। वहीं पर लगे कम्प्यूटर में नेट की सुविधा होगी जहां किसान अपने चहेते साइट को खोल सकेंगे। बामेति ने योजना पर काम शुरू कर दिया है। संस्थान के निदेशक डा. आर के सोहाने ने बताया कि 27 से 2ानवरी तक इसके लिए कार्यशाला आयोजित की गयी है। दीप नारायण सहकारी संस्थान में आयोजित होने वाली कार्यशाला में हर जिले के दो अधिकारियों को नेट फ्रेंडली बनाया जायेगा।ड्ढr ड्ढr बामेति के शोमेश कुमार उन्हें लगभग 50 ऐसे साइटों की भी जानकारी देंगे जिनपर कृषि उत्पादों के एक्सपोर्ट के लिए आपूर्तिकर्ताओं की मांग रहती है। राज्य में एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केटिंग कंपनी एक्ट के समाप्त हो जाने से किसान अपने उत्पाद को कहीं भी बेचने के लिए स्वतंत्र हैं। इसी का लाभ दिलाने के लिए उन्हें नेट फ्रेंडली बनाया जायेगा। श्री सोहाने ने बताया कि यहां से सीखकर जाने वाले अधिकारी किसानों के बीच अपने ज्ञान को बिखरंेगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: किसान बनेंगे इंटरनेट फ्रेंडली