DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कसाब के पत्र पर असमंजस में है पाकिस्तान

अजमल आमिर कसाब के इकाबालिया बयान वाले पत्र को भारत की ओर से सौंपे जाने के बावजूद पाक सरकार अभी तक यह तय नहीं कर पाई है कि वह इस खत का जवाब कैसे दे। भारत ने कसाब के इकबालिया बयान को गत 23 दिसम्बर को पाक को सौंप दिया था, जिसमें इस आतंकवादी ने अपनी नागरिकता और लश्कर ए तैयबा से जुड़े होने की कहानी बयान करते हुए 6 जनवरी को समाप्त हो रही उसकी पुलिस रिमांड की अवधि से पहले इस्लामाबाद से कानूनी सहायता मांगी थी। ‘द न्यूज’ के मुताबिक पत्र मिलने के दस दिनों के बाद भी यहां गृह और विदेश मंत्रालय के अधिकारी कसाब के पत्र की जांच करने के अलावा यह सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहे हैं कि कसाब वास्तविक रूप से पाकिस्तान का ही नागरिक है। पाकिस्तानी गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक नेशनल डाटा रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी कसाब के पाकिस्तानी नागरिक होने के दावे की पुष्टि नहीं कर सका है। लेकिन उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी अधिकारियों की इस मामले में जांच अभी पूरी नहीं हुई है और वे जल्द ही इसका जवाब देंगे। वहीं विदेश मंत्रालय सूत्रों ने कसाब के इकबालिया बयान को गंभीरता से नहीं लेते हुए कहा कि किसी बंदी के बयान को पुख्ता सबूत नहीं माना जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कसाब के पत्र पर असमंजस में है पाकिस्तान