अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उग्र हुआ जेसीएमयू आंदोलन की तैयारी

पे रिवीजन पर बनी सहमति के खिलाफ द झारखंड कोलियरी मजदूर यूनियन उग्र है। दरभंगा हाउस में बुधवार को उसने गेट मीटिंग बुलायी है। यूनियन की छह जनवरी को हुई बैठक में इसके खिलाफ रणनीति तैयार की गयी। महासचिव सनत मुखर्जी ने बताया कि क्षेत्रों में भी इसका विरोध किया जायेगा। दस वर्ष के समझौते से कामगार ज्यादा लाभांवित होते। स्वार्थ के लिए संगठनों ने इसकी अनदेखी की। एरियर भुगतान और सुविधा का जिक्र सहमति में नहीं है। रिटायर्ड कामगारों को ओपीडी में मेडिकल सुविधा दिलाकर भद्दा मजाक किया गया है।ड्ढr यूजी के कामगारों के बार में सोचा, पर ओसी को नजरअंदाज कर दिया। दूसरी कंपनी में दी गयी सुविधा यहां दिलाने पर सभी चुप्पी साधे हैं। खान दुर्घटना में कामगार मरते हैं, पर पीआरपी और रिस्क पे अधिकारियों को मिलेगा। इस पर श्रमिक प्रतिनिधि मौन हैं। निकट भविष्य में रिटायर होने वालों को छला गया है। एक अतिरिक्त इंक्रीमेंट दिलाकर उन्हें अधिक घाटा पहुंचाया जायेगा। बैठक में नवीन झा, गौतम मांझी, संतु गांगुली, सुखदेव प्रसाद, दाहो महतो, चुकंदर महतो, सरयू यादव, राजकुमार सिंह भी मौजूद थे।ड्ढr कोयला मजदूर यूनियन की सभाड्ढr रांची। सीएमपीडीआइ में कोयला मजदूर यूनियन ने मंगलवार को सभा की। अध्यक्ष अशोक यादव ने कामगारों को हैदराबाद में वेतन एवं अन्य मामलों पर बनी सहमति के बार में विस्तार से बताया। उनके मुताबिक सभी कामगार इससे खुश हैं। हर ग्रेड के कामगारों को ग्रौस पर 24 फीसदी का लाभ होगा। अब तक के वेतन समझौते में यह पहली बार हुआ है। इससे कुछ लोगों द्वारा फैलाया जा रहा भ्रमजाल भी टूट गया। जो कामगारों को कुछ भी दिलाने की स्थिति में नहीं हैं, वही बेवजह विरोध कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उग्र हुआ जेसीएमयू आंदोलन की तैयारी