अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान के बेटे बने आईएएस

भारतीय सिविल सेवा परीक्षाआें में राजस्थान के थार रेगिस्तान की दुरुह ढाणियों में रह रहे होनहार तीन युवकों का चयन हुआ है। भारत पाकिस्तान सीमावर्ती बाड़मेर जिले से तीन युवाआें के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) में चयन से ग्रामीण इलाके के लोग खुश हैं। करणीदान उनकी 47वीं रैंक है। वहीं चूनाराम जांगिड होडू गांव के रहने वाले हैं और उनकी 428 वीं रैंक है। उनके पिता खेतीबाड़ी और लकड़ी का काम करते हैं। जिले के आईएएस में चयनित भैराराम के पिता किसान हैं। खारा निवासी भैराराम की 432 वीं रैंक है। रोचक तथ्य है कि इन तीनों चयनित युवकों के गांव तक पक्की सड़क तक नहीं है। कमोबेश तीनों के परिवार की आर्थिक स्थिति भी कमजोर ही है लेकिन इन युवकों की अथक मेहनत से यह साबित हो गया कि प्रतिभा परिस्थियों की मोहताज नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: किसान के बेटे बने आईएएस