अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजस्थान: हाथ की ओर बसपा एमएलए!

राजस्थान विधानसभा में बहुान समाज पार्टी का सूपड़ा साफ होने वाला है। पार्टी के तकरीबन सभी आधा दर्जन विधायक कांग्रेस के पाले में जाने को तैयार खड़े हैं। उन्हें आलाकमान की हरी झंडी का इंतजार है। नवलगढ़ से जीते राजकुमार शर्मा के नेतृत्व में अधिकतर बसपा विधायकों ने पिछले दिनों राज्य विधानसभा में मुख्यमंत्री अशोक गहलौत के विश्वासमत प्रस्ताव पर मतदान के समय सरकार का साथ दिया था। इस संबंध में पूछे जाने पर श्री गहलौत ने बुधवार को यहां कहा कि भाजपा के कुशाय्सन के खिलाफ मिले जनादेश की कद्र करते हुए ही बसपा विधायकों ने विधानसभा में कांग्रेस का साथ दिया है। उनके कांग्रेस में शामिल होने की कोई बात नहीं है। पूर्ण बहुमत के साथ सत्तारूढ़ होने के बाद प्रधानमंत्री बनने के सपने के साथ उत्तर प्रदेश के बाहर पांव पसारने की कवायद में जुटी बहुान समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती को हाल के विधानसभा चुनावों में पड़ोसी राजस्थान में उल्लेखनीय समर्थन मिला था। इसके छह विधायक राजकुमार शर्मा, राजेंद्र सिंह, गिरिराज सिंह, रमेश, रामकेश और मुरारीलाल मीणा चुनाव जीते जबकि पिछली विधानसभा में पार्टी के सिर्फ दो विधायक चुने गए थे। पिछले चुनाव में मिले 3.ीसदी मतों के मुकाबले इस बार बसपा को वहां 7.8 फीसदी मत प्राप्त हुए। मत प्रतिशत के हिसाब से राजस्थान में बसपा के रूप में तीसरी राजनीतिक ताकत के उदय के रूप में भी देखा जाने लगा था। लेकिन सरकार के विश्वासमत प्रस्ताव पर मतदान के समय बसपा विधायकों के खुलकर सरकार का साथ देने के साथ ही राज्य में बसपा और इसके नेतृत्व में तीसरी ताकत खड़ी होने की संभावनाओं को पलीता सा लग गया। दरअसल, बसपा के टिकट पर चुनाव जीते अधिकतर विधायक पूर्व कांग्रेसी हैं। कांग्रेस की सरकार बन जाने और राज्य राजनीति में बसपा के बैनर तले अपना राजनीतिक भविष्य सीमित नजर आने के कारण इन विधायकों ने कांग्रेस की मुख्यधारा में शामिल होने की कवायद शुरू कर दी है। सूत्रों के अनुसार आलाकमान की हरी झंडी मिल गई तो दलबदल विधेयक की तकनीकी बारीकियों को ध्यान में रखते हुए फिलहाल उन्हें विधानसभा में कांग्रेस के संबद्ध एसोसिएट सदस्य के रूप में बैठने को कहा जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजस्थान: हाथ की ओर बसपा एमएलए!