अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमेरिका व यूएन से पाक राजदूतों की वापसी

पाकिस्तान ने मुंबई हमले में पकड़े गए आतंकवादी अजमल कसाब के पाकिस्तानी नागरिक होने की बात कबूलने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जनरल (सेवानिवृत्त) महमूद अली दुर्रानी को बर्खास्तगी करने के बाद अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र से अपने राजदूतों को स्वदेश बुला लिया है। जनरल दुर्रानी की बर्खास्तगी के बाद पाकिस्तान सरकार ने बुधवार की देर रात अचानक अमेरिका में अपने राजदूत हुसैन हक्कानी और संयुक्त राष्ट्र में स्थाई प्रतिनिधि अब्दुल्ला हुसैन हारून को इस्लामाबाद बुलाने का फरमान जारी कर दिया। वाशिंगटन स्थित पाकिस्तानी दूतावास और संयुक्त राष्ट्र से इन राजनयिकों के इस्लामावाद रवाना होने की पुष्टि कर दी गई। सूत्रों ने बताया कि इन राजनयिकों को जनरल दुर्रानी की बर्खास्तगी के बाद कसाब को पाकिस्तानी नागरिक के रूप में स्वीकार करने के कारण अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में किरकिरी होने के बाद आगे की कूटनीतिक व्यूहरचना के लिए इस्लामाबाद बुलाया गया है। सूत्रांे के मुताबिक पिछले दो दिनों में अचानक तेजी से बदले घटनाक्रम पर विचारविमर्श के बाद ही पाकिस्तान मुंबई हमले में भारत के दावों का प्रतिउत्तर देगा। इतना ही नहीं कसाब को अपना नागरिक स्वीकारने के बाद अमेरिका की नजर में भी जरदारी सरकार की अपने मंत्रियों और आला अधिकारियों पर मजबूत नियंत्रण न होने की बात भी उजागर हुई है। राजनयिक विश्लेषकों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि मुंबई हमले जैसे अतिसंवेदनशील मामले में जरदारी सरकार अपने आला अधिकारियों और मंत्रियों की जुबान पर लगाम कस पाने में नाकाम रही और इससे अमेरिका के लिए भी असहज स्थिति पैदा होती दिखी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अमेरिका व यूएन से पाक राजदूतों की वापसी