अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गिलानी को फैसले की जानकारी नहीं थी : दुर्रानी

मुंबई में आतंकवादी हमलों में शामिल एकमात्र गिरफ्तार आतंकी अजमल आमिर कसाब को पाकिस्तानी नागरिक बताने के मामले में पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के पद से हटाए गए महमूद अली दुर्रानी ने गुरूवार को कहा कि उन्हें इसलिए हटाया गया क्योंकि प्रधानमंत्री को इस संबंध में लिए गए फैसले की जानकारी नहीं थी। दुर्रानी ने कहा देश की सुरक्षा एजंेसियों के साथ ही शीर्ष स्तर अधिकारियों ने बुधवार को ही यह निर्णय लिया था कि मुम्बई हमले में गिरफ्तार आतंकवादी को पाकिस्तानी नागरिक होने की पुष्टि की जाएगी। उन्होंने रायटर के साथ टेलीफोन पर हुई बातचीत में कहा कि शीर्ष स्तर पर बुधवार को यह फैसला लिया गया था कि हम दुनिया को यह बताएंगे कि कसाब पाकिस्तानी नागरिक है, क्योंकि सच छुपाने का कोई फायदा नहीं है। इस फैसले की सिफारिश सुरक्षा एजेंसियों ने की थी और बाद में मुझे यह जिम्मेदारी दी गई कि मैं यह बात सार्वजनिक करूंगा। दुर्रानी ने कहा कि प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी को इस फैसले की जानकारी नहीं थी। वह उस समय लाहौर में थे इसलिए उन्हें इसकी जानकारी नहीं हो पाई। दुर्रानी ने कहा कि पाकिस्तान द्वारा कसाब को पाकिस्तानी नागरिक स्वीकार किए जाने के बाद परमाणु सम्पन्न भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव में कमी आनी चाहिए। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से इस कदम से दोनों देशों के बीच जारी तनाव में कमी आएगी। हमें दुनिया को यह बताना चाहिए कि पहले हमने कसाब को पाकिस्तानी नागरिक इसलिए नहीं माना क्योंकि हमें इसकी जानकारी नहीं थी, लेकिन अब जब जांच के बाद हमें इसकी जानकारी हो गई है तो हम कह रहे हैं कि हां वह पाकिस्तानी है। उन्होंने कहा कि मैं अपने अंजाम को बुरा नहीं कहूंगा क्योंकि मैंने वही किया जो भारत और पाकिस्तान के बीच शांति के लिए आवश्यक था। यदि यह कुछ लोगों को अच्छी नहीं लगी तो मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। उल्लेखनीय है कि भारत और विश्व समुदाय के भारी दबाव के कारण पाकिस्तान को बुधवार को यह बात स्वीकार करनी पड़ी कि मुंबई आतंकवादी हमलों को अंजाम देने वाला एकमात्र जीवित बचा आतंकवादी अजमल आमिर कसाब पाकिस्तानी नागरिक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गिलानी को फैसले की जानकारी नहीं थी : दुर्रानी