DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्गेनिक खेती ज्यादा करं किसान : वंदना

ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा देने की दिशा में कार्य कर रही वंदना मिश्रा का मानना है कि देश में किसानों की आत्महत्या का बड़ा कारण पारंपिरक खेती से हट कर विदेशी तर्ज पर खेती करना है। हाल के वर्षो में किसान इस बात को ध्यान में रख कर खेती करने लगे हैं कि ज्यादा से ज्यादा उत्पाद को बाहर के देशों में भेजा जा सके, ताकि उन्हें ज्यादा मुनाफा हो। लेकिन ऐसा नहीं है। कई किसान रासायनिक खाद और हाइब्रिड बीज के चक्कर में अपनी जमीन की उर्वरा शक्ित को खत्म कर रहे हैं, इसका दूरगामी प्रभाव किसानों पर दिखायी पड़ रहा है। वर्तमान में इस बात की जरूरत है कि ज्यादा से ज्यादा किसान आर्गेनिक खेती करं और पहले अपने परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए खेती करं। जमीन बचानी और उसे खेती के लायक ही रहने देना किसानों की प्राथमिकता होनी चाहिए। वंदना मिश्रा शुक्रवार को झारखंड स्मॉल स्केल इंडस्ट्रीा एसोसिएशन सभागार में पत्रकारों से बात कर रही थीं।ड्ढr उन्होंने हाारीबाग और रांची के किसानों के साथ बैठक कर उनकी समस्याओं पर बातचीत की। उन्होंने किसानों को बताया कि वे किस प्रकार से अपने खेतों की रक्षा करं और आर्गेनिक खेती को बढ़ावा दें।ड्ढr उन्होंने कहा कि भारत से मसाले और चुने हुए बासमती चावल ही निर्यात किये जाते थे, लेकिन अंतराष्ट्रीय बाजार में निर्यात कर ज्यादा लाभ कमाने के चक्कर में हम अपनी जमीन को बर्बाद कर रहे हैं। इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ सकता है। इस अवसर पर एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष विकास सिंह, विनोद पोद्दार सहित कई सदस्य उपस्थित थे। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आर्गेनिक खेती ज्यादा करं किसान : वंदना