DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो दिनों में 6 करोड़ का नुकसान!

तेल कंपनियों की हड़ताल ने राज्य सरकार को एक बार फिर जोर का झटका धीर से दिया है। तेल कंपनियों की दो दिनों की हड़ताल से राज्य सरकार को लगभग 5 से 6 करोड़ रुपए का नुकसान होने की आशंका है। सभी तेल कंपनियों से राज्य सरकार को प्रतिमाह लगभग सौ करोड़ टैक्स के रूप में प्राप्त होता है। हालांकि वाणिज्य कर विभाग ने अभी तक स्पष्ट नहीं किया है कि दो दिनों की हड़ताल से कितने रुपए का घाटा लगा। चूंकि चालू महीने का टैक्स अगले माह मिलता है इस कारण फरवरी में ही पता चलेगा कि विभाग को कितना घाटा लगा। पिछले महीने तेल की कीमतों में जो कमी हुई थी उससे भी सरकार को करोड़ों रुपए का घाटा लगा है।ड्ढr ड्ढr जानकारों का कहना है कि कुछ महीने पहले तेल की कीमत में वृद्धि हुईथी उससे राज्य सरकार को करोड़ों रुपए टैक्स के रूप में फायदा होता परंतु अन्य राज्यों की तरह बिहार सरकार ने भी जनता पर से बोझ को कम करने के लिए पेट्रोल एवं डीाल की कर दरों में कमी कर दी।ड्ढr ड्ढr इस कारण तेल के दाम बढ़ने के बावजूद राज्य सरकार को फायदा नहीं हुआ। फिलहाल बिहार में पेट्रोल पर प्रति लीटर 24.05 एवं डीाल पर 18.36 प्रतिशत टैक्स है। इसके पूर्व बिहार में पेट्रोल पर 27 एवं डीाल पर 20 प्रतिशत प्रति लीटर कर था। नवम्बर में पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में क्रमश: 5.18 एवं 2.10 रुपए प्रति लीटर की कमी से भी राज्य सरकार को मार्च तक लगभग 25 से 30 करोड़ की चपत लगने की आशंका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो दिनों में 6 करोड़ का नुकसान!