अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नए फामरूले पर मंथन करती रही सरकार

र्मचारियों की हड़ताल को समाप्त कराने के लिए राज्य सरकार शनिवार को किसी नये फामरूले पर मंथन करती रही। दूसरी तरफ चौथे दिन भी कर्मचारी हड़ताल पर डटे रहे। हड़ताल के कारण अब जिलों में कोषागार के काम-काज पर भी असर पड़ने लगा है। शनिवार को सचिवालय में अवकाश रहने के कारण कर्मचारी नेता जिला समाहरणालय पहुंचे और सभा की। इस सभा में उन्होंने एलान किया कि जब तक कोई सम्मानजनक समझौता सरकार कर्मचारियों के साथ नहीं करती है तब तक हड़तालजारी रहेगी। वैसे सचिवालय सेवा संघ के महासचिव अनिल कुमार सिंह के अनुसार हड़ताल के चौथे दिन भी कर्मचारी नेताओं से वार्ता के लिए सरकार की ओर से कोई पहल नहीं हुई।ड्ढr ड्ढr उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के राजधानी पहुंचते ही शनिवार की सुबह से हड़ताल को समाप्त कराने के लिए अफसरों की सरगर्मी शुरू हो गई। श्री मोदी प्रवासी भारतीयों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए सात जनवरी से ही चेन्नई में थे। उन्होंने पटना लौटकर वित्त और कार्मिक विभाग के अधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा की। वित्त विभाग के प्रधान सचिव और अन्य अधिकारियों के साथ दिन भर हड़ताल को समाप्त कराने के लिए ऐसे फामरूले की तलाश पर मंथन चलता रहा जो कर्मचारियों को भी मंजूर हो और जिससे सरकार के खजाने पर भी ज्यादा भार नहीं पड़े। अधिकारियों के बीच चल रही चर्चा के अनुसार जल्दी ही कर्मचारी संगठनों को वार्ता के लिए बुलाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नए फामरूले पर मंथन करती रही सरकार