अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक के लिए करता था जासूसी, धरा गया

सेना से जुड़ी खुफिया जानकारियां पाकिस्तानी कमांडरों तक पहंचाने के आरोप में एक युवक को एसटीएफ ने मेरठ से गिरफ्तार किया है। 25 वर्षीय अमीर अहमद उर्फ भूर अहमद के बार में पुलिस का दावा है कि वह आईएसआई एजेन्ट है। उसके पास से देहरादून और मेरठ कैन्ट की आर्मी यूनिटों का नक्शा, एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल, रडियो कम्यूनिकेशन ब्रिगेड मोर्टार शूट और पैदल दस्ते से जुड़े कई अहम, गोपनीय और प्रतिबंधित सैन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं। एसएसपी रघुबीर लाल के मुताबिक, सहारनपुर निवासी अहमद पांच बार पाकिस्तान जा चुका है। उसकी एक बहन कराची में रहती है। अहमद आखिरी बार अप्रैल 2008 में लगभग दो माह पाकिस्तान रह कर लौटा था। इसी दौरान आईएसआई और पीआईओ ने कराची में 17 दिनों की ट्रेनिंग दी थी। यहां उसे भारतीय मिसाइल, प्रक्षेपण केन्द्रों और सेना छावनियों से जानकारियां जुटाने का प्रशिक्षण दिया गया था। इस काम के वास्ते उसे दुबई से जावेद इकबाल नाम का शख्स वेस्टर्न मनी ट्रांसफर यूनियन के जरिए समय-समय पर पैसा भेजता था। एडीाी कानून व्यवस्था बृजलाल के मुताबिक, मुंबई में हुए आतंकी हमलों के बाद वह पश्चिमी कमान की सैन्य गतिविधयों और मिलट्री मूवमेंट से जुड़ी सामरिक सूचनाएं कराची और लाहौर के आकाओं को भेज रहा था। मेरठ, रुड़की, देहरादून और दिल्ली से भारत-पाक सीमा सीमा की ओर भेजे जाने वाली हर मिलट्री ट्रुप के आवागमन से लेकर हर सैन्य गतिविधयों की विस्तृत जानकारी उसके पास थी। पूछताछ के दौरान उसने आईएसआई, पाकिस्तान इंटेलिजेंस से जुड़ी कई महत्वपूर्ण खुालासे भी किए हैं। सीमा पार भेजी जाने वाली हर सूचना के बदले उसे पाकिस्तान और दुबई से पैसे मिलते थे। हालांकि पुलिस मान रही है कि आर्मी के अंदर उसका कोई स्रेत नहीं था। फिलहाल, एसटीएफ, आर्मी इंटेलीजेंस, स्पेशल ब्रांच के अधिकारी उससे पुछताछ में जुटे हैं। पुलिस ने भूरा अहमद ने नाम से 1में जारी हुए उसके पास्पोर्ट को जब्त कर लिया है। फर्ाी बताए जा रहे इस पास्पोर्ट की जांच जारी है। साथ ही कॉल डिटेल का अध्ययन किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पाक के लिए करता था जासूसी, धरा गया