अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

14 दिन की हिरासत में राजू

सत्यम के दागी संस्थापक के खिलाफ कार्रवाई करने में कोई देरी नहीं हुई है। सरकार ने आश्वस्त किया कि किसी भी दोषी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। सत्यम के सीएफओ को भी पुलिस ने शनिवार की शाम गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने शुक्रवार की रात गिरफ्तार राजू को शनिवार को मजिस्ट्रेट के घर पर पेश किया। मजिस्ट्रेट ने राजू को 14 दिनों तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया। 23 जनवरी तक राजू जेल में रहेंगे। मालूम हो कि उन पर जिन अपराधों में मुकदमे दर्ज किए गए हैं वे सभी गैर-जमानती हैं। आंध्रप्रदेश पुलिस ने राजू के साथ उसके भाई रामा राजू को भी गिरफ्तार किया है। रामालिंगा राजू की छाती में दर्द और बेचैनी की शिकायत पर शनिवार को उनकी मेडिकल जांच की गई। गृहमंत्री पी चिदंबरम, योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलूवालिया और प्रमुख वित्त अधिकारी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलकर उन्हें सत्यम के घटनाक्रम और राजू की गिरफ्तारी के बारे में ब्यौरा देंगे। यह बैठक रविवार को सरकार द्वारा घोटाल की शिकार सत्यम कंप्यूटर के निदेशक मंडल को भंग करने की घोषणा की मद्देनजर होगी। विगत रात्रि सीआईडी के अधिकारियों ने राजू से घंटों पूछताछ की। इस बीच सेबी के अध्यक्ष सीबी भावे ने संकेत दिया है कि सत्यम से संबंधित उसकी जांच जारी रहेगी।ड्ढr ड्ढr यह पूछने पर कि क्या राजू और आडिटर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी कंपनी मामल के मंत्री प्रेमचंद गुप्ता ने संवाददाताओं से कहा- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा, इसलिए बेहतर होगा कि हम किसी व्यक्ति विशेष या आडिटर (पीडब्ल्यूसी) के बारे में बात न करें। मंत्री न कहा- हमारा नजरिया बिल्कुल साफ है और हम सामंजस्य पूर्ण कार्रवाई करेंगे। उन्होंने कहा कि लेखा कंपनियों की सर्वोच्च संस्था आईसीएआई न कंपनी के आडिटरों और फाइनेंशियल रिपोर्टिंग रिव्यू बोर्ड स कुछ सूचनाएं मांगी है। उन्होंने कहा कि वे आडिट के कागजात मांग सकते हैं और उन्होंने ऐसा किया भी है। राजू के वकील एल भरत कुमार ने बताया कि राजू न शुक्रवार की रात छाती में दर्द और उच्च रक्तचाप की शिकायत की। केयर अस्पताल के डॉक्टरों का एक दल करीब रात तीन बजे पुलिस महानिदेशक के दफ्तर आया और उनकी जांच की।ड्ढr ड्ढr इस बीच रामालिंगा राजू के शनिवार को सेबी के जांच दल के सामने पेश होन के अटकलों के बीच नियामक न कहा कि 7800 करोड़ रुपए के लेखा घोटाल की जांच के लिए उसने अपने दल को स्पष्ट ब्यौरा दे दिया था। इधर आंध्रप्रदेश पुलिस न कहा कि सेबी के दल को इनसे पूछ-ताछ करन के लिए आíथक अपराध न्यायालय में अर्जी डालनी पड़ेगी। हैदराबाद के अतिरिक्त डीजी-सीआईडी ए शिवनारायण न कहा- सेबी की राजू से पूछताछ करन के लिए आíथक अपराध न्यायालय में अर्जी देनी होगी। सेबी के अध्यक्ष सीबी भावे से जब यह पूछा गया कि क्या जांच दल को सिटी बैंक समेत विभिन्न बैंकों की ओर से उपलब्ध कराए सत्यम के लेन-देन के ब्यौरे भी दिए जाएंगे, उन्होंने कहा- जितनी जरूरत थी हमने जांच दल को ब्यौरा उपलब्ध करा दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 14 दिन की हिरासत में राजू