DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजा में हमले तेज, टैंकों का अंदर तक प्रवेश

संघर्ष रोकने के अंतरराष्ट्रीय अपीलों को नजरंदाज करते हुए शनिवार को इजरायल टैंक गाजा में और अंदर प्रवेश कर गए। इसके साथ ही इजरायल ने गाजा पट्टी में अपनी जमीनी और हवाई कार्रवाई और तेज करने की चेतावनी दी है। कट्टर इस्लामी संगठन हमास के निर्वासित नेता खालिद मिशाल ने कहा कि उनका संगठन संघर्षविराम पर तब तक विचार नहीं करेगा जब तक कि इजरायल गाजा में 15 दिन से जारी अपनी सैन्य कार्रवाई नहीं रोकता और क्षेत्र की घेराबंदी समाप्त नहीं करता। मिशाल ने दमिश्क में शनिवार को टेलीविजन पर प्रसारित अपने संबोधन में कहा कि इजरायल पहले गाजा से अपनी सेना हटाने के साथ ही आक्रामक कार्रवाई रोके तभी हम शांत होने पर विचार करेंगे। गाजा में हमास के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इजरायली सेना द्वारा उत्तरी गाजा पट्टी में की गई कार्रवाई में एक परिवार के आठ सदस्यों सहित 26 लोग मारे गए। सत्ताईस दिसंबर से जारी इजरायली कार्रवाई में अभी तक 821 फिलिस्तीनी नागरिक मारे गए हैं, जबकि रॉकेट हमलों में 10 इजरायली सैनिक और तीन इजरायली नागरिक मारे गए हैं। मिस्र के राष्ट्रपति होस्नी मुबारक द्वारा संघर्षविराम की कोशिशों को बहुत प्रगति हासिल नहीं हुई है। इजरायल के विमानों ने दक्षिण गाजा में अपने नागरिकों के लिए पर्चे गिराए, जिसमें लिखा हुआ है कि वह अपनी सैन्य कार्रवाई और तेज करेगा। इजरायल के सैन्य कमांडरों ने एक आेर दावा किया कि हमास के सभी बटालियनों का सफाया किया जा रहा है, वहीं हमास के नेता मिशाल ने कहा इजरायली सैनिकों को कुछ भी हासिल नहीं हुआ है। इजरायल ने कहा कि जबालया शरणार्थी शिविर के पास हवाई हमले में हमास का शीर्ष कमांडर आमिर मनसी मारा गया। हालांकि उसने शनिवार दिन में जबालया में टैंक से गोलीबारी किए जाने से इनकार किया, जिसमें एक ही परिवार के आठ लोगों के मारे जाने की जानकारी थी। फिलिस्तीन ने कहा कि इस हमले में एक वयस्क और दो बच्चे मारे गए, लेकिन मनसी के बारे में उसे कोई जानकारी नहीं है। इजरायल के टैंकों और लड़ाकू विमानों ने 15वें दिन भी गाजा में बमबारी जारी रखी। हमास के लड़ाकों ने भी टकराव दूर करने के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों के बावजूद जवाब में इजरायली इलाकों में रॉकेट दागे। हमास के रॉकेट हमलों में अब तक 13 इजरायली मारे जा चुके हैं, जिनमें दस सैनिक और तीन आम नागरिक हैं। दोनांे पक्षों की कार्रवाई मानवीय सहायता के लिए इजरायल द्वारा घोषित तीन घंटे के संघर्ष विराम के दौरान भी जारी रही। गाजा में फंसे लोगों की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि वह मानवीय सहायता की आपूर्ति व्यापक स्तर पर शुरू करेगा, लेकिन इससे पहले इजरायल को उसे आश्वासन देना होगा कि उसके कर्मचारियों को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा। इजरायल कार्रवाई रोकने के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के बावजूद हमले कर रहा है। उसका कहना है कि वह इस मामले को इसके अंजाम तक ले जाना चाहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गाजा में हमले तेज, टैंकों का अंदर तक प्रवेश