DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उर्दू भाषा सबसे अधिक लोकप्रिय : फातमी

ेन्द्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री एम.ए. फातमी ने कहा है कि भाषा को अगर ‘पेट’ से नहीं जोड़ा गया तो उसके अस्तित्व पर खतरा उत्पन्न हो सकता है। भाषा अगर रोजगार नहीं दे सकी तो फिर उसका भविष्य अंधकारमय हो सकता है। श्री फातमी रविवार को उर्दू आंदोलन के नेता शाह मुश्ताक अहमद की याद में शाह मुश्ताक यादगारी व्याख्यान ‘वर्तमान राष्ट्रीय परिवेश में उर्दू पत्रकारिता का कर्तव्य’ को संबोधित कर रहे थे।ड्ढr केन्द्रीय मंत्री ने उर्दू को सबसे अधिक लोकप्रिय और सबसे मीठी भाषा बताया और कहा कि जीवन के हर क्षेत्र में यह भाषा अहम रोल अदा कर रही है। फिल्म इंडस्ट्री से लेकर नेताओं की शेरो-शायरी में भी उर्दू सबसे अहम है। मुम्बई कांड का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने अंतुले साहब का समर्थन तो किया, लेकिन मन उसे गवारा नहीं किया। उन्होंेने कहा कि सच लिखना चाहिए। मुम्बई कांड को सीधे-सीधे आतंकवादी घटना बताते हुए उन्होंने ऐसे मुद्दों पर मीडिया को पॉजीटिव बनने और बरगलाने से बचने की नसीहत भी दी। राकांपा के राष्ट्रीय महासचिव व सांसद तारिक अनवर ने फिरकापरस्ती को बेहद नुकसानदेह बताया और कहा कि इसका अंजाम दहशतगर्दी के रूप में सामने आता है। जम्हूरी हुकूमत में इसकी कोई गुंजाइश नहीं है। उन्होंने अकलियतों से इस मामले में सावधान रहने की अपील भी की और कहा कि सच कहने में खौफ नहीं होना चाहिए। सच के पक्ष में आवाज उठाना ही सही जर्नलिज्म है। वरिष्ठ पत्रकार अजीज बर्नी ने मुम्बई कांड को लेकर कई सवाल उठाए और पूर मामले की सही जांच की मांग की। उन्होंने कहा कि जो दिखाया जा रहा है, वह सच नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि संघ परिवार सच सामने नहीं आने देना चाहता। करकर की मौत पर उठे सवाल को लेकर उन्होंने कहा कि अंतुले से पहले यह सवाल स्व. करकर की पत्नी ने ही उठाया था जब उन्होंने नरन्द्र मोदी को अपने दरवाजे से लौटा दिया था। उन्होंने उर्दू पत्रकारिता को हमेशा सच का साथ देने वाला बताया। व्याख्यानमाला को रयाज अजीमाबादी, डॉ. रहान गनी व शमाएले नबी ने भी संबोधित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उर्दू भाषा सबसे अधिक लोकप्रिय : फातमी