अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

नाराज हैं युवराजसूबे के युवराज इन दिनों नाराज चल रहे हैं। नाराज होना लाजिमी है। तीर-धनुष छाप कंपनी के यंग केयर टेकर हैं। गुरु तुल्य पिता के बाद कंपनी के असली वारिस। बड़ी जतन से शासन की बागडोर मिली थी। सब कुछ ठीके-ठाक चल रहा था कि अचानक टी सुनामी ने सब कुछ उााड़ दिया। आंधी एसी चली और इतनी तेज कि कुरसी हिली ही नहीं, गिर गयी। देखते-देखते गुरु के साम्राज्य का पतन हो गया। इसका दुख तो कंपनी के मेंबरान को होना ही था। लेकिन अब हो क्या सकता है? कहावत है- अब पछताये होत क्या, जब चिड़िया चुग गयी खेत। गुस्सा पर किसका कंट्रोल रह पाता है। गुस्सा के निशाने पर हाकिम, नेता आने लगे। किसने गुरु की कुरसी हिलायी? किसने यह हिमाकत की, उसको दंड मिलेगा। बराबर मिलेगा। युवराज गुस्सैल हैं। अभी आंखों में काला चश्मा पहन रखा है। चारों ओर उनको काला ही काला दिखायी दे रहा है। अब उनके गुस्से का निशाना कौन बनेगा, कौन नहीं। यह नहीं पता। पता चला कि एगो हाकिम उनके हत्थे चढ़ गये। खूब गरमाये, आंखें तररी। तीर-धनुष ब्रांड के कई छुटभैये नेता भी युवराज के गरम मिजाज से दो-चार हुए। अब देखिये, उनका मिजाज कब ठंडा होता है। आप बचकर रहियेगा, कहीं उनके रास्ते न आ जायेइगा, नय तो ..।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग