DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पे रिवीजन पर गोलबंद होने लगे कामगार

पे रिवीजन एवं अन्य मांगों को लेकर एचइसी में पुन: औद्योगिक शांति भंग हो सकती है। इसके लिए रणनीति तय की जा रही है। सात मई को एचइसी संघर्ष मोरचा की सभा होगी। मोरचा की पांच मई को हुई बैठक में कहा गया कि प्रबंधन वर्ष 2007 का पे रिवीजन नहीं देने जा रहा है। इस कारण अब संघर्ष के अलावा और दूसरा कोई विकल्प नहीं है। मोरचा के लालदेव सिंह ने कहा है कि लगातार तीन साल मुनाफा कमाने की स्थिति में प्रबंधन ने पे रिवीजन की प्रक्रिया शुरू करने की बात कही थी। लेकिन अब वह इससे मुकर रहा है। स्थायी कामगारों का रिवीजन नहीं होने पर सप्लाई कामगारों का रिवीजन भी नहीं होगा। इस कारण इस संघर्ष में सभी को शामिल होना होगा। उन्होंने सभी कामगारों से सात मई को एचइसी मुख्यालय में सभा में शामिल होने की अपील की है।नाजरथ कान्वेंट के नये भवन का उद्घाटनरांची। कार्डिनल तेलेस्फोर पी टोप्पो ने मंगलवार को सिरमटोली में नाजरथ कान्वेंट के नये भवन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस भवन में रहने वाली धर्मबहनें पवित्रात्मा से संचालित होकर अपने कार्य संपादित करं। यह भवन फॉर्मेशन हाउस होगा, जिसमें कैंडीडेट सिस्टर्स और धर्मबहनें रहेंगी। इस अवसर पर फादर अलोसियुस कटाडी, फादर लिनुस कुाूर, फादर विक्टर रबेलो, फादर सिप्रियन, फादर आनंद डेविड, प्रोविंसियल सिस्टर संगीता, पायोनियर सिस्टर एन्न रॉबर्टा, सिस्टर बसंती लकड़ा और कई धर्मसमाजी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पे रिवीजन पर गोलबंद होने लगे कामगार