अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीतीश के बाद अब चौबे चले गांव की ओर

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बाद पीएचईडी मंत्री अश्विनी कुमार चौबे भी अब गांवों की खाक छानेंगे। वे एक फरवरी से ग्राम गौरव यात्रा शुरू करने जा रहे हैं। राजगीर से शुरू होने वाली इस यात्रा में विभाग के सभी लोग एक महीने तक गांवों में रहेंगे। जिस गांव में मंत्री व अधिकारी ठहरंगे वहां रात में महिला पंचायत लगेगी जिसमें महिलाओं को शौचालय और स्वच्छता के महत्व के बार में बताया जाएगा। उसी गांव में सुबह में मंत्री से लेकर अधिकारी तक सभी लोग शौचालय बनाने के लिए दो घंटे का श्रमदान करंगे। यह घोषणा पीएचईडी की ओर से सोमवार को आयोजित स्वच्छता संकल्प दिवस के अवसर पर की गई।ड्ढr ड्ढr इस मौके पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पीएचईडी मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, स्वास्थ्य मंत्री नंदकिशोर यादव और पंचायती राज मंत्री हरि प्रसाद साह समेत कई विधायकों व अधिकारियों ने स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा के समक्ष सभी गांवों को पूरी तरह स्वच्छ बनाने का संकल्प लिया। संकल्प रामकृष्ण मिशन के आचार्य ने दिलाया। ग्राम गौरव यात्रा वर्ष 2012 तक राज्य की सभी पंचायतों को निर्मल ग्राम पंचायत बनाने के लक्ष्य को लेकर की जाएगी। इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री श्री मोदी ने कहा कि सरकार चाहती है कि हर घर में एक शौचालय हो। इसके लिए बीपीएल और एपीएल सभी लोगों को अनुदान मिलेगा। इस लक्ष्य को वर्ष 2012 तक हासिल कर लिया जाएगा। उन्होंने पीएचईडी मंत्री से स्वच्छता का पूरा पैकेा तैयार कर इसका प्रचार-प्रसार गांवों और शहरों में करने की सलाह दी। पीएचईडी मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि इस साल दिसम्बर तक सरकार ने 156 पंचायतों को निर्मल ग्राम पंचायत बना दिया है। मार्च तक यह संख्या 524 हो जाएगी। साथ ही वर्ष 2000 में एक हाार पंचायतों को निर्मल बना दिया जाएगा। इस अवसर पर विधायक सत्यदेव नारायण आर्य, अरुण कुमार और नितिन नवीन आदि भी मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नीतीश के बाद अब चौबे चले गांव की ओर