DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मूलवासी अधिकारों से अब भी वंचित : सुबोधकांत

ेंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि झारखंड अलग राज्य आदिवासियों और मूलवासियों के संयुक्त संघर्ष का परिणाम है। लेकिन ये अपने अधिकारों से अब तक वंचित हैं। सत्ता में भागीदारी भी नहीं है। राज्य में 60 प्रतिशत आबादी वाले मूलवासियों की घोर उपेक्षा हुई है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। उक्त बातें मंगलवार को उन्होंने मूलवासी सदान जनाधिकार मंच के सम्मेलन में कही। उन्होंने कहा कि अगर सदान एकाुट होकर अपने अधिकारों के लिए लड़ेंगे, तो वह उनके साथ हैं। इसके लिए सभी जिलों में मंच के लोग प्लेटफार्म बनाकर भ्रमण करं। लोगों को एकाुट करं और 15 फरवरी तक मोरहाबादी मैदान में सम्मेलन करं। आरक्षित सीटों में उसी उम्मीदवार का समर्थन करं,ाो सदान हित में बात कर। सम्मेलन में प्रो खालिक अहमद, मो सईद आजम अहमद, विजय साहु, रामचंद्र शाहदेव, लाल काशीनाथ शाहदेव, दिलीप साहु, वसंत कुमार मो शमीम, संतोष महतो, धनश्याम दास आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मूलवासी अधिकारों से अब भी वंचित : सुबोधकांत